ProfileImage
22

Post

1

Followers

0

Following

PostImage

Saritagaode

April 1, 2024

PostImage

MS Dhoni Biography : महेंद्र सिंह धोनी द कैप्टन कूल की कहानी Mahendra Singh Dhoni The Story of Captain Cool


M.S. धोनी, या जिन्हें हम सब प्यार से "कैप्टन कूल" कहते हैं, भारतीय क्रिकेट जगत के एक दिग्गज हैं।  उनका जीवन यात्रा किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है, एक रेलवे टिकट परीक्षक से लेकर विश्व कप विजेता कप्तान बनने तक का सफर!

शुरुआती जीवन (Shuruati Jeevan)
1981 में रांची में जन्मे धोनी शुरूआत में फुटबॉल के गोलकीपर थे लेकिन, उनके कोच ने उनकी प्रतिभा को पहचानते हुए उन्हें क्रिकेट में विकेटकीपर के रूप में आजमाया 

संघर्ष और सफलता (Sangarsh aur Safalta)
क्रिकेट में सफलता हासिल करने के लिए धोनी को काफी संघर्ष करना पड़ा (Dhoni had to struggle a lot to achieve success in cricket).  उन्होंने रेलवे में टिकट परीक्षक के रूप में काम करते हुए लगातार अभ्यास किया उनकी मेहनत और लगन रंग लाई और उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह मिली

कप्तानी और उपलब्धियां (Kaptaani aur Uplabdhiyaan)
2007 में धोनी को भारतीय वनडे टीम का कप्तान बनाया गया (Dhoni was made the captain of the Indian ODI team in 2007).  उन्होंने भारत को 2007 टी20 विश्व कप, 2011 विश्व कप और 2013 चैंपियंस ट्रॉफी की जीत दिलाई (Unhone Bharat ko 2007 T20 World Cup, 2011 World Cup aur 2013 Champions Trophy ki jeet dilayi).  उनकी शांतचित्त कप्तानी और निर्णय लेने की क्षमता उन्हें "कैप्टन कूल" का नाम दिलाई

निष्कर्ष (Nishकर्ष)
धोनी सिर्फ एक क्रिकेटर नहीं, बल्कि युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत हैं (Dhoni is not just a cricketer, but an inspiration for the youth).  उन्होंने अपने संघर्षों से यह साबित किया है कि कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प से कोई भी सपना पूरा किया जा सकता है


PostImage

Saritagaode

April 1, 2024

PostImage

Car Safety Tips : चलती कार में क्यों लग जाती है आग जानिए इसकी वजह


गर्मी की तपिश बढ़ गई है. भीषण गर्मी के कारण वाहनों का इंजन अचानक खराब हो जाता है और इंजन से धुआं निकलने लगता है। ऐसे मामले होते हैं जहां वाहन रुक जाता है या उसमें आग लग जाती है. पिछले साल भी ऐसी कई घटनाएं हुईं. इसलिए सुरक्षा उपाय करना जरूरी है ताकि गर्मी के दिनों में कार में आग न लगे.

पिछले कुछ वर्षों में दुर्घटनाओं की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। वैसे तो दुर्घटनाओं के कई कारण होते हैं, लेकिन कई लोग अपने वाहनों के साथ अपनी सुरक्षा का उचित ध्यान नहीं रखते हैं. इसके दुष्परिणाम भी सामने आ रहे हैं. गर्मी के दिनों में वाहनों का खास ख्याल रखना पड़ता है. इन दिनों में लंबे समय तक वाहन चलाने से टायर गर्म हो जाता है. इसके कारण टायर फटने की घटनाएं होती हैं. इसके अलावा कार में अचानक आग लग जाना, इंजन गर्म होकर बंद हो जाना, ऐसी घटनाएं होती रहती हैं.

ऐसे रखें अपनी कार का ख्याल Take care of your car like this :
1. दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक तेज गर्मी रहती है। इस दौरान लंबी दूरी की यात्रा करने से बचें.
2. वाहन का इंजन, इंजन ऑयल, ब्रेक ऑयल, टायर, एसी आदि की जांच करानी चाहिए.
3. वाहनों के रेडिएटर में कूलेंट की समय-समय पर सख्ती से जांच करानी चाहिए.
4. सरल और टायर को अधिक न भरें। वायु दाब की जाँच करें.
5. घंटों तक गाड़ी को धूप में पार्क न करें, दोपहिया या चार पहिया वाहन को हमेशा छाया में ही पार्क करें.

कार की समय-समय पर सर्विस कराते रहें
कार की उचित देखभाल करनी चाहिए। समय-समय पर कार की सर्विस कराते रहें.

गाड़ी के एयर फिल्टर को समय पर साफ करते रहें.
ब्रेक लाइनर को समय-समय पर बदला जाना चाहिए.
यदि संभव हो तो पेट्रोल टैंक को पूरा भरने से बचें.
सुनिश्चित करें कि इंजन में सही मात्रा में तेल हो.
टायर में पर्याप्त हवा रखें, नाइट्रोजन वाली हवा भरें.

नाइट्रोजन हवा लाभकारी है
टायर में सामान्य हवा गर्म होने पर अधिक फैलती है. इसलिए टायर फटने और दुर्घटना होने का खतरा रहता है, ऐसे में टायर में नाइट्रोजन हवा भरना उचित माना जाता है। जो सामान्य हवा से ज्यादा फायदेमंद है.


PostImage

Saritagaode

March 13, 2024

PostImage

CAA Citizenship Amendment Act : भारतीय मुसलमानों को CAA के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है


NEW DELHI : केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि भारतीय मुसलमानों को चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (सीएए) उनकी नागरिकता को प्रभावित नहीं करेगा और इसका उस समुदाय से कोई लेना-देना नहीं है जिसे अपने हिंदू समकक्षों के समान अधिकार प्राप्त हैं.

मंत्रालय ने सीएए के संबंध में मुसलमानों और छात्रों के एक वर्ग के डर को दूर करने की कोशिश करते हुए यह स्पष्ट किया कि "इस अधिनियम के बाद किसी भी भारतीय नागरिक को अपनी नागरिकता साबित करने के लिए कोई दस्तावेज पेश करने के लिए नहीं कहा जाएगा।" गृह मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है, "भारतीय मुसलमानों को चिंता करने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि सीएए ने उनकी नागरिकता को प्रभावित करने के लिए कोई प्रावधान नहीं किया है और इसका वर्तमान 18 करोड़ भारतीय मुसलमानों से कोई लेना-देना नहीं है, जिनके पास अपने हिंदू समकक्षों के समान अधिकार हैं.


PostImage

Saritagaode

March 13, 2024

PostImage

Success Story In Hindi : संघर्ष से सफलता तक एक प्रेरणादायक कहानी


एक बार की बात है, एक गाँव में एक युवक रहता था। उसका नाम रामू था। रामू का सपना था कि वह बड़ा अधिकारी बने और अपने परिवार की संपत्ति को बढ़ावा दे। लेकिन उसके परिवार के साथ की गरीबी के कारण, उसे शिक्षा के लिए अच्छे स्कूल जाने का मौका नहीं मिला.

एक दिन, रामू को एक पुराना किताब मिला, जिसमें एक महान व्यक्ति के जीवन के बारे में लिखा था। उस व्यक्ति की कहानी ने रामू के दिल को छू लिया। वह समझ गया कि शिक्षा के बिना भी एक व्यक्ति अपने सपनों को पूरा कर सकता है, अगर उसमें इच्छाशक्ति और मेहनत हो.

रामू ने तत्काल निर्णय लिया कि वह अपने सपनों को पूरा करने के लिए कुछ भी करेगा। वह रोज़ रात को लम्बी घंटों तक पढ़ता और मेहनत करता। उसने अपने जीवन को बदलने के लिए हर संभावित प्रयास किया.

धीरे-धीरे, उसकी मेहनत और लगन ने उसे उसके सपनों के करीब ले जाया। वह एक दिन अधिकारी बन गया और अपने परिवार की संपत्ति को बचाने में मदद करने लगा। उसकी कहानी गाँव के लोगों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत बन गई.

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि हमारे सपने हमें जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देते हैं। अगर हम मेहनत करें और अपने लक्ष्यों की दिशा में दृढ़ता से आगे बढ़ें, तो हम किसी भी मुश्किल को पार कर सकते हैं और सफलता की ओर बढ़ सकते हैं.


PostImage

Saritagaode

March 13, 2024

PostImage

5 Best Tips For Children : ये 5 आदते जो बच्चों बना देंगी पढाई में तेज


बच्चो का अच्छे से पालन-पोषण करने के लिए बचपनसे अच्छी आदते लगाना बहुत जरुरी होता है। अक्सर माता-पिता शिकायत होती है की बच्चे Study नहीं करते बच्चे Study से दूर भागते है.

Study करने के लिए कहो तो नाटक करते है. इसके कारन अक्सर बच्चे Study का महत्व समझ नहीं पाते। कही आदते ऐसी भी है जो रोज के जीवन में फॉलो किए तो बच्चे Study में कभी पीछे नहीं रहेंगे. 

 1. अपने बच्चो के लिए एक रूटीन सेट करें Set a routine for your children :

5 Best Tips For Children  ये 5 आदते जो बच्चों बना देंगी पढाई में तेज
बच्चे Study कर सके इसके लिए उनको कोनसी आदते लगानी चाहिए ये समझना होगा। सबसे पहले बच्चो के लिए एक रूटीन सेट करे. रूटीन में खेलकूद से लेके Study तक रूटीन सेट करे. इसमें बच्चो के लिए 2 घंटे खेलने के लिए होना चाहिए और बाकि का टाइम Study आराम के लिए होना चाहिए। इस रूटीन से बच्चो को रोज Study करने की आदत लगेगी. 

2. Study एरिया Study Area :

5 Best Tips For Children  ये 5 आदते जो बच्चों बना देंगी पढाई में तेज
बच्चो को Study करने के लिए एक जगह चुने। अगर बच्चे Tv देखते देखते Study करते है तो ये अच्छी बात नहीं है. इसलिए बच्चो को Study टेबल पर बैठने ली आदत लगाए। बच्चो के Study पर ध्यान दे और वो Study करते समय केंद्रित होंगे ऐसा देखो. 

3. बच्चो पर प्रेशर मत दो Don't put pressure on children :

5 Best Tips For Children  ये 5 आदते जो बच्चों बना देंगी पढाई में तेज
बच्चो को हमेशा बार बार Study करने के लिए फ़ोर्स मत करो. बच्चो का Study में मन लगे इसके लिए उन्हें प्रोत्साहन करें। उन्हें Study करने बैठने के लिए आप खुद टाइम देना चाहिए उन्हें सिखाने का प्रयास करे.

4. लिखने की आदत लगाए Children should develop the habit of writing. :

5 Best Tips For Children  ये 5 आदते जो बच्चों बना देंगी पढाई में तेज
सिर्फ Study करो ऐसा बोलने से बच्चे अच्छी Study नहीं करते। इसके लिए उनसे Study करवानी होती है. इसीलिए बच्चो को हमेशा लिखने की और पढ़ने की आदत लगवाए.

5. स्वस्थ आहार और नींद

5 Best Tips For Children  ये 5 आदते जो बच्चों बना देंगी पढाई में तेज
हेल्दी दिमाग के लिए शरीर हेल्दी रहना उतनाही महत्वपूर्ण होता है. बच्चो को हमेशा हेल्दी फ़ूड खाने में प्रोत्सान करें. बच्चो को सुबह या शाम को दूध पिने ले लिए बोलिए बच्चो को स्नैक्स कुरकुरे ऐसी चीजे खाने की बहुत आदत होती है. इसके कारन उन्हें अच्छी नींद नहीं आती और कमजोरी भी अति है. इसलिए बच्चो को योग्य टाइम पर सोने लो आदत लगाए.   


PostImage

Saritagaode

March 13, 2024

PostImage

Pik Karj yojana : 31 मार्चपूर्वी पीककर्ज भरा तरच व्याज होईल माफ


खरिपासाठी घेतलेल्या पीक कर्जावरील व्याज परत पाहिजे असल्यास संबंधित शेतकऱ्याने 31 मार्चपूर्वी कर्ज भरणे आवश्यक आहे.कर्ज भरण्यासाठी आता केवळ 20 दिवसांचा कालावधी शिल्लक आहे.

त्यामुळे शेतकरी रकमेची जमवाजमत करण्यात व्यस्त असल्याचे दिसून येत आहे. यावर्षीपासून पहिल्यांदाच शेतकऱ्यांना व्याजासह कर्जाची पूर्ण रक्कम भरावी लागणार आहे. त्यानंतर व्याजाची रक्कम संबंधित शेतकऱ्याच्या खात्यात थेट जमा केली जाणार आहे. शेतीचा खर्च भागवण्यासाठी शेतकऱ्याला सावकाराच्या दारात उभे राहावे लागू नये, यासाठी पीककर्ज
योजना सुरू केली आहे.

 बँका शेतकऱ्यांना कर्ज देण्यास तयार होत नाहीत. ही बाब लक्षात घेऊन बँकांना पीककर्ज वाटपाचे उद्दिष्ट दिले जाते. याचा आढावा शासनामार्फत दर आठवड्याला घेतला जातो. मागील खरीप हंगामात बँकांनी 34 हजार 39 शेतकऱ्यांना 190 कोटी रुपयांचे पीककर्ज वितरित केले आहे.

 सदर पीककर्ज 31 मार्चपूर्वी भरले तरच
त्यावर बँकेने घेतलेले ६ टक्के व्याज परत केले जाणार आहे.
नियमित कर्जाची उचल करणारे अनेक शेतकरी आहेत. सदर शेतकरी कोणत्याही परिस्थितीत ३१ मार्चपूर्वी कर्ज भरतात. काही दिवसातच नवीन कर्ज बँका मंजूर करतात. त्यामुळे शेतकऱ्यांना पीककर्जाचे पैसे १० महिने बिनव्याजी वापरायला मिळतात.

शेतकऱ्यांमध्ये गोंधळ
 जिल्हा मध्यवर्ती सहकारी बँकेचे सर्वच शेतकरी यापूर्वी मुद्दलच भरत होते.आता मात्र व्याजसह रक्कम भरण्यास सांगीतले जात आहे. त्यामुळे शेतकरी संभ्रमात पडत आहेत.
आता त्यांना 6 टक्के व्याजदराने कर्ज भरावे लागणार आहे.

तेव्हाच मिळतो बिनव्याजी कर्ज
जवळपास जून महिन्यात पीककर्ज मंजूर केले जाते. हे कर्ज भरण्याची अंतिम मुदत 31 मार्च आहे. खरीप हंगामातील धान पीक डिसेंबर महिन्यात निघते. कडधान्याची पिकेही फेब्रुवारी महिन्यात निघतात. त्यामुळे मार्च महिन्यात शेतकऱ्यांकडे पैसा असतो. ही बाब लक्षात घेऊन पीककर्ज भरण्याचा शेवटचा दिनांक 31 मार्च ठरवण्यात आला आहे. त्यानंतर कर्ज भरल्यास व्याज माफीचा लाभ दिला जात नाही.

आधी व्याजासह कर्ज भरा त्यानंतर परत होणार व्याज
जिल्हा मध्यवर्ती सहकारी बँक यापूर्वी शेतकऱ्यांकडून कर्जाची केवळ मुद्दल घेत होती. व्याजाची रक्कम बँकेच्या खात्यात जमा होत होती. तर राष्ट्रीयकृत बँका शेतकऱ्याला व्याजासह रक्कम भरायला लावत होत्या. शासनाकडून बँकेला व्याजाची रक्कम मिळाल्यानंतर ती रक्कम संबंधित शेतकऱ्याच्या खात्यात जमा केली जात होती. आता मात्र शासन थेट संबंधित शेतकऱ्याच्या खात्यात डीबीटी अंतर्गत व्याजाची रक्कम जमा करणार आहे. त्यामुळे सर्वच बँका आता व्याजासह कर्जाची रक्कम वसूल करत आहेत.

Pik Karj yojana  : 31 मार्चपूर्वी पीककर्ज भरा तरच व्याज होईल माफ


PostImage

Saritagaode

March 13, 2024

PostImage

Weight Loss Tips In Hindi : वजन घटाने के लिए 5 बेहतरीन टिप्स


इन वर्षों में, आपने संभवत वजन घटाने की अजीब सलाह के बारे में सुना होगा, चाहे वह हर दिन अजवाइन का रस पीना हो या अपने भोजन को वजन घटाने वाली "कुकीज़" से बदलना हो। अक्सर उन युक्तियों को बिना किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञता वाले लोगों द्वारा प्रचारित किया जाता है, इसलिए यदि कोई चीज़ सच होने के लिए बहुत अच्छी लगती है, तो संभवतः वह सच है। लेकिन जिस तरह वजन घटाने के लिए बहुत सारी गुमराह करने वाली सलाह मौजूद हैं जिनसे बचना चाहिए, ऐसे लोगों के लिए बहुत सारे वैध, शोध-समर्थित और विशेषज्ञ-अनुमोदित सुझाव भी हैं जो सही मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र में हैं और वजन कम करना चाहते हैं.

Weight Loss Tips In Hindi  वजन घटाने के लिए 5 बेहतरीन टिप्स

Correct Diet सही आहार : सही पोषण युक्त आहार खाना वजन कम करने का महत्वपूर्ण कदम है। अपने भोजन में प्रोटीन, फाइबर, फल और सब्जियों को शामिल करें। बेकिंग की बजाय भूने हुए और प्रसिद्ध चीनी के बजाय नैचुरल मिठास का उपयोग करें. 

Weight Loss Tips In Hindi  वजन घटाने के लिए 5 बेहतरीन टिप्स

2. Regular Exercise नियमित व्यायाम : नियमित रूप से व्यायाम करना वजन कम करने में मदद कर सकता है। योग, वॉकिंग, जॉगिंग, साइकिलिंग जैसी फिजिकल एक्टिविटी को अपनाएं.