PostImage

Vaingangavarta19

Today   

PostImage

जिल्हा परिषद शाळेला आले दारु अड्डयाचे स्वरूप


जिल्हा परिषद शाळेला आले दारु अड्डयाचे स्वरूप 

धाबा:-
धाबा येथील जिल्हा परिषद ची शाळा दारुडे व जुगाऱ्यांचा अड्डा बनली आहे 
चंद्रपूर जिल्ह्यातील पहिली मुलींची शाळा सन 1888 मध्ये धाबा गावात उघडल्या गेली. एका इंग्रज अधिकाऱ्यांनी ही शाळा सुरू केली. या शाळेने अनेक अधिकारी घडविले. क्रांतीज्योती सावित्रीबाई फुले यांच्या जन्मदिनी या शाळेत शिकलेले विद्यार्थी एकत्र येतात. शाळेच्या इमारती समोर नतमस्तक होतात. आता मात्र या शाळेकडे जिल्हा प्रशासनाचे पूर्ण दुर्लक्ष झालं आहे. कधी शिक्षणाचे माहेरघर असलेली ही शाळा आता दारुड्यांच्या आणि जुवारीचा अड्डा बनली आहे. शाळा परिसरात दारूचा रिकामा बाटलांच्या अक्षरस सडा पडलेला. ठीक ठिकाणी शौच केलेलं. शाळा सुरू व्हायच्या आधी आणि शाळा सुटल्यानंतर इथं जुआरी एकत्र येतात. दारूंच्या घोटासोबतच पत्त्यांची अदलाबदली करतात. या शाळेतील शिक्षक चंद्रपूर येथून धाबा गावाला येतात.वेळेवर शिक्षक कधीच हजर होत नाही अशी पालकांची तक्रार. शिक्षक वेळेवर येत नाहीत. आलेच तर मोबाईल मध्ये गुंतलेले असतात. शाळेला लागूनच  लहान नाला आहे. या नाल्यात विद्यार्थी खेळायला जातात. त्यांचा जीव गेला तर जबाबदार कोण? या शाळेत गरिबांची मुलं शिकतात. त्यामुळे पालकांनी तक्रार केली, ओरड केली तरीही शिक्षण विभाग त्याकडे लक्ष देतच नाही असा अनुभव पालकांना आलेला आहे. ज्या शाळेला दैवत मानल्या जाते त्या शाळेची ही दयनीय अवस्था बघून पालकांनी संताप व्यक्त केला आहे.


PostImage

Chandrawar Media Service

Yesterday   

PostImage

आजीविका मिशन की दीदियों की अनूठी पहल


वनीय क्षेत्र में बीजारोपण की तैयारी सीड बॉल बनाकर मेढ़, बाड़ी और जंगल में छिड़कने की तैयारी

बालाघाट :-

एक पेड़ माँ के नाम अभियान के तहत जिले में पौधरोपण का कार्य तो जारी है ही लेकिन इससे हटकर बिरसा के मछुरदा गांव की स्व सहायता समूह से जुड़ी दीदीयों ने अपने आप में एक नया तरीका निकाला है। यहाँ 6 स्व सहायता समूह की करीब 30 दीदियां पिछले 2 दिनों से सीड बॉल बना रही है। अब तक इन्होंने 1000 से अधिक ऐसे सीड बॉल बनाये है। अब ये सीड बॉल खेत की मेड़,बाड़ी, जंगल और मैदानी शासकीय भूमि पर छिड़कने की तैयारी की जा रही है। सीड बॉल बनाने का तरीका भी अपने आप में एक अलग ही है। जो वास्तव में अंकुरण होने की पूरी संभावना रखता है। ऐसे बनता है सीड बाल

ऐसे बनता है सीड बाल

प्रभारी जिला प्रबंधक कृषि आजिविका मिशन के दिनेश कुमार ने बताया कि ग्राम संगठन के माध्यम से समूह की दीदियां इस कार्य जुटी है। इन्‍हें खेती का पांच दिवसीय प्रशिक्षण प्रदान कर विभिन्‍न विधियॉ बतायी गई थी। सीड बनाने के लिए गोमूत्र, गोबर, चुना, रेत और मिक्स मिट्टी की बाल तैयार की जाती है। इसी बाल में मनचाहा या जो जंगल क्षेत्र में सीड उपयुक्त हो बीज (सीड) बाल के अंदर रख दिया जाता है। इसके बाद दो दिनों तक सूर्य की रोशनी में इस बॉल को रख दिया जाता है। इसके बाद जो भी उपयुक्त स्थल हो वहां हल्का सा गड्डा कर ऊपर से मिट्टी ढक दी जाती है। दीदियां बाल में जामुन, नीम, करन्ज, आम, अमरूद और आंवले के सीड रख रही है।


PostImage

Chandrawar Media Service

Yesterday   

PostImage

सांसद श्रीमती भारती पारधी व विधायक श्रीमती अनुभा मुंजारे द्वारा …


फ़ीडर्स के पृथकीकरण, ट्रांसफार्मरों की क्षमता वृद्धि के साथ उच्चदाब लाइनों के विस्तार के लिए आरडीएसएस योजना में कार्य प्रारम्भ

डेंजर रोड़ का मरम्मत कार्य हुआ प्रारम्भ

सांसद ने ली पहली 3 विभागों की परिचयात्मक बैठक

बालाघाट :-

सांसद श्रीमती भारती पारधी की अध्यक्षता में गुरुवार को कलेक्टर सभागृह में 3 विभागों की परिचयात्मक सह समीक्षा बैठक हुई। बैठक में पीडब्ल्यूडी, पीआईयू और एमपीईबी ने अपने-अपने विभागों के प्रचलित कार्यो की प्रगति प्रस्तुत की। साथ ही उन्होंने विभागों से सम्बंधित समस्याओ के निराकरण की ओर भी विस्तृत चर्चा की। एमपीईबी अधीक्षण यंत्री श्री दीपक उइके ने विभाग द्वारा वर्तमान में संचालित योजना के बारे में विस्तृत जानकारी प्रस्तुत की। उन्होंने भारत शासन द्वारा संचालित विद्युत वितरण प्रणाली के सुदृढ़ीकरण एवं भविष्य में आने वाली चुनौतियों का समाना करने के लिए विद्युत प्रणाली के आधुनिकीकरण के सम्बंध में बताया। उन्होंने आरडीएसएस योजना का विस्तार करते हुए कहा कि आने वाले 5 वर्षों में इस योजना के तहत जिले में 409 करोड़ के कार्य किये जायेंगे। इसमें मुख्य रूप से सब स्टेशनों की क्षमता वृद्धि, उच्च हानि वाले क्षेत्रों में केबलीकरण, ट्रांसफार्मरों की क्षमता वृद्धि, फीडरों के पृथकीकरण, उच्च दाब लाइनों का विस्तार आदि कार्य होंगे। बैठक में सांसद श्रीमती पारधी और विधायक श्रीमती अनुभा मुंजारे द्वारा बिजली की समस्याओं के निराकरण के सम्बंध में भी विभाग को जानकारी दी। अधीक्षण यंत्री श्री उइके ने कहा कि बताई गई समस्याओ का निराकरण 2 दिनों में कर दिया जायेगा। बैठक में वारासिवनी विधायक श्री विक्की पटेल भी मौजूद रहे।

डेंजर रोड़ निर्माण मरम्मत व सरेखा ब्रिज के सम्बंध में विस्तार से चर्चा

बैठक के दौरान पीडब्ल्यूडी कार्यपालन यंत्री श्री अड़मे ने विभिन्न प्रचलित कार्यो की जानकारी दी। साथ ही उन्होंने डेंजर रोड़ की वर्तमान स्थिति के सम्बंध में कहा कि इस रोड से हैवी ट्रैफिक गुजरता है। जबकि यह सड़क ग्रामीण स्तर की है। इस रोड से ट्रैफिक कम कर दिया जाए तो बेहतर होगा। इस मामले में अन्य विकल्पों पर भी विचार किया गया। साथ ही रेलवे विभाग से भी इस सम्बंध में जानकारी ली जाएगी। फिलहाल सड़क के मरम्मत कार्य को तेजी से करने के निर्देश दिए गए। बैठक के दौरान पीआईयू द्वारा प्रचलित कार्यो की जानकारी भी दी गई।


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बुढ़ी में विधिक साक्षरता शिविर एवं …


बालाघाट :- 

प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश व अध्यक्ष श्री दिनेश चन्द्र थपलियाल के मार्गदर्शन में गुरुवार को शाउमावि बुढ़ी में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में उपस्थित जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री जीतेन्द्र मोहन धुर्वे द्वारा अपने उद्बोधन में कहा कि आज महिलाऍ अपने उल्लेखनीय कार्यो से अपना बहुमूल्य योगदान दे रही है जिससे हमारा देश निरंतर प्रगति की ओर अग्रसर हो रहा है। लेकिन यर्थाथ में आज भी उन्हें लैंगिक असमानता, भेदभाव जैसी अनगिनत समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इन परिस्थितियों में समाज का मौलिक कर्त्तव्य है कि हम महिलाओं की स्थिति बेहतर बनाने को लेकर निरंतर प्रयास करने का संकल्प ले। साथ ही श्री धुर्वे ने बताया कि तकनीकी विकास ने आधुनिक जीवन शैली को बदल दिया है। समय के साथ इंटरनेट का प्रयोग आम जीवन में बढ़ता जा रहा है। हमारी छोटी सी चूक सायबर अपराधियों के लिए डेटा चोरी के द्वार खोल सकती है। सायबर अपराधी हमारे पैसे चुरा सकते है हमारी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा सकते है। अधिकांश सायबर अपराध मानवीय लापरवाही के कारण होते है। इसलिए सायबर सुरक्षा जागरूकता आवश्‍यक है, बच्चों को मोबाईल एवं ऑनलाईन संसाधनों का उपयोग बहुत सावधानी पूर्वक करना चाहिए।

       शिविर के पश्‍चात विद्यालय परिसर में पंच-ज अभियान अंतर्गत चलाये जा रहे वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत फलदार पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया गया। इस दौरान श्री दुर्गेश लिमजे असिस्टेंट लीगल एड डिफेंश काउसिल, विद्यालय की शिक्षिका श्रीमती मनीषा श्रीवास्तव, श्रीमती किरण चिले, श्रीमती अल्का धुर्वे एवं पैरालीगल वालेन्टियर सुश्री कमर सुल्ताना व छात्र छात्राऍ उपस्थित रहें।


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

स्वास्थ्य सेवाओं में लापरवाही बरतने पर 02 एएनएम कार्यकर्ता निलंबित


बालाघाट :-

गत दिवस सामु.स्वा.केन्द्र बिरसा के अंतर्गत उप स्वास्थ्य केन्द्र पितकोना के ग्राम चिलोरा में मलेरिया बीमारी का प्रकोप देखने को मिला। जिसके फलस्वरूप मलेरिया से एक साढ़े तीन वर्षीय बच्चे की मृत्यु हो गई। घटना के परिणामस्वरूप मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी, जिला मलेरिया अधिकारी, सी.बी.एम.ओ. बिरसा/लांजी द्वारा ग्राम चिलोरा का भ्रमण एवं निरीक्षण किया गया। निरीक्षण उपरांत उप स्वा. केन्द्र पितकोना में पदस्थ एएनएम श्रीमती मनीषा कटारे द्वारा ग्राम में सतत भ्रमण न करना एवं अन्य स्वास्थ्य सेवाएं देने में लापरवाही बरतना पाया गया। बताया गया कि इस प्रकार के कृत्य पदीय दायित्वों के विपरीत होकर म.प्र. सिविल सेवा आचरण नियम 1965 (वर्गीकरण, नियंत्रण एवं अपील) के उप नियम (एक) (दो) (तीन) का स्पष्ट उल्लंघन है। जिसके फलस्वरूप कलेक्टर व जिला दंडाधिकारी डॉ. गिरीश कुमार मिश्रा ने श्रीमती मनीषा कटारे एएनएम उकवा केन्द्र पितकोना विकासखण्ड बिरसा को तत्काल प्रभाव से निलंबित के आदेश जारी किए है।

इसी प्रकार की लापरवाही लांजी विकासखंड के अंतर्गत ग्राम पौसेरा में देखी गई। जिसमें बताया गया कि उपस्वा. केन्द्र पौसेरा में पदस्थ एएनएम श्रीमती सोमेश्वरी नारनौरे को ग्राम चिलोरा एवं लाफरा कार्य दायित्व सौंपा गया था। उनके द्वारा संबंधित ग्राम में सतत भ्रमण न करना एवं अन्य स्वास्थ्य सेवाएं देने में लापरवाही बरतना पाया गया। जिसके परिणामस्वरूप म.प्र. सिविल सेवा आचरण नियम 1965 (वर्गीकरण, नियंत्रण एवं अपील) के उप नियम (एक) (दो) (तीन) का उल्लंघन पाए जाने पर श्रीमती सोमेश्वरी नारनौरे को भी निलंबित के आदेश जारी किए गए है।


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

पीड़ित मानवता की सेवा : दुर्गम गांव में लगाया नेत्र …


तीन सैकड़ा बैगा-आदिवासियों को किया वस्त्रों का वितरण

बालाघाट। पीड़ित मानवता की सेवा और जरूरतमंदो को जीवनयापन करने में आ रही कठिनाईयों को दूर करने के लिए जिले के आदिवासी बैगा बाहुल्य गांव मोहनपुर में नेत्र परीक्षण शिविर, स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें तीन सैकड़ा से भी अधिक ग्रामीणों का स्वास्थ्य जांच कर करीब 165 लोगों की नेत्र जांच विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा की गई। इस निःशुल्क शिविर में उकवा क्षेत्र अंतर्गत आने वाले ग्राम मोहनपुर सहित आसपास की करीब दस ग्राम पंचायतों के तीन सैकड़ा से भी ज्यादा ग्रामीणों ने शिविर में सहभागिता दर्ज कराते हुए स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किया। यह आयोजन स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर समाजसेवी संस्था महावीर इंटरनरेशनल केन्द्र द्वारा आयोजित किया गया था।

मोतियाबिंद के आठ नेत्र रोगियों को आपरेशन के लिए भेजा

संस्था के पदधिकारियों ने बताया गोल्डन जुबली सेवा कार्य के प्रथम चरण में ग्राम पंचायत भवन मोहनपुर में पांच ग्रामों के बैगा परिवारों के बैगा परिवार के लोगो को 300 से अधिक वस्त्र साड़ी, चादर, पेंट शर्ट बच्चो के कपड़े प्रदान किए गए। नेत्र शिविर में 165 बैगाओ का नेत्र परीक्षण कर 57 लोगो को चश्में, आई ड्रॉप, दवा और 8 मोतियाबिंद के मरीजो को आपरेशन के लिए जबलपुर भेजा गया।

बच्चों को किया शिक्षण सामग्री का वितरण

शिविर में आसपास की 10 ग्राम पंचायत अंतर्गत ग्राम लत्ता, मोहनपुर सहित अन्य गांवो के स्कूली बच्चो को शिक्षण सामग्री का वितरण किया गया। हाई और हायर सेकेंडरी स्कूल के 270 से अधिक बच्चों को रजिस्टर, पेन, सहित अन्य शिक्षण सामग्री प्रदाय की गई। इस अवसर पर स्कूल के सभी बच्चों के साथ ही स्कूल स्टॉफ शिक्षक एवं शिक्षिकाओं का भी नेत्र परीक्षण कराया गया।

झिझक छोड़ो, चुप्पी तोड़ों अभियान की हुई शुरूआत

इस अवसर पर झिझक छोड़ो, चुप्पी तोड़ों अभियान की शुरूआत की गई। बैगा-आदिवासियों के बीच जनजागरूकता लाने के उद्देश्य से यह अभियान शुरू किया गया है। बता दे कि ग्रामीण अंचल के लोग किसी भी परेशानी एवं स्वास्थ्य संबंधी विकार को लेकर झिझक करते है और चुप्पी साधे रहते है। जिससे उनकी सेहत पर प्रतिकूल असर पड़ता है और समय पर इलाज नही होने के कारण असमय ही उनकी मौत हो जाती है। जिसे देखते हएु झिझक छोड़ो और चुप्पी तोड़ों अभियान की शुरूआत की गई ताकि वे, स्वास्थ्य संबंधी विकार एवं अन्य परेशानियों से बे-झिझक अवगत कराए ताकि समय पर उनकी समस्याओं का निराकरण किया जा सके।

आदिवासी स्टूडेंटो ने लिया हिस्सा

इस अभियान में आदिवासी कन्या छात्रावास की करीब 42 से अधिक छात्रों ने हिस्सा लिया और वे गांव-गांव में जनजागरूकता लाने के लिए इस अभियान के जरिए ग्रामीणों को स्वास्थ्य, स्वच्छता के साथ ही अन्य जानकारियों से अवगत कराएंगे।

पर्यावरण संरक्षण को लेकर करे पौधरोपण

पर्यावरण संरक्षण को लेकर पौधरोपण करने भी ग्रामीणों और विद्यार्थियों को अवगत कराया गया। आदिवासी कन्या छात्रवास अधीक्षिका की उपस्थिति में आधा सैकड़ा से ज्यादा पौधों का रोपण किया गया। इस आयोजन में महावीर इंटरनेशनल के पूर्व अंतर्राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सोहन वैद्य, अभय सेठिया, सुशील जैन, महेंद्रभाई टांक, सिद्धकरण कांकरिया, ज्ञानचंद कांकरिया सहित बड़ी संख्या में ग्राम के सरपंच एवं ग्रामीण मौजूद थे। 

 


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

आदेश वापस ले सरकार, नहीं तो सरपंच संघ करेगा आंदोलन


ग्रामीण मजदूरों के लिए सरकार ने जारी किया काला आदेश -वैभवसिंह बिसेन

 01 जुलाई को पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के उपसचिव के जारी आदेश क्रमांक 2258/मनरेगा/2024 को लेकर अब पंचायत सरपंच सवाल खड़े करने लगे है। जिला सरपंच संघ अध्यक्ष वैभवसिंह बिसेन ने केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए काले कृषि कानून की तरह इस आदेश को ग्रामीण मजदूरों के लिए काला आदेश करार दिया है। प्रेस को जारी बयान में जिला सरपंच संघ अध्यक्ष वैभवसिंह बिसेन ने कहा कि सरकार यदि इस आदेश को वापस नहीं लेती है तो इसके खिलाफ जिले और पूरे प्रदेश में सरपंच, पंचायत बंद करके आंदोलन करेंगे।

जिला सरपंच संघ अध्यक्ष वैभवसिंह बिसेन ने बताया कि जारी आदेश में मनरेगा के कार्यो में रेश्यो (अनुपात) को लेकर उल्लेखित किया गया है कि मटेरियल संबंधी व्यय ज्यादा होने की वजह से समस्त पक्के कामों को अन्य योजनाओं के मद से अभिसरण कर कराया जाए और तमाम मनरेगा संबंधी मटेरियल के काम बंद कर दिया जाए। इसके अलावा आदेश में ग्रामीणों को मिलने वाली काम की मजदूरी संबंधी कार्यो को भी लागत कम करने के निर्देश दिए गए है। जो पंचायत क्षेत्र में रोजगार के साधनों को समाप्त करने का सरकार का कदम है।

जिलाध्यक्ष वैभवसिंह बिसेन ने बताया कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास के हालिया जारी आदेश में जिन 24 सामग्री व्यय वाले निर्माण कार्यो को उल्लेखित किया गया है। उनमें से उंगलियो में गिने जाने लायक काम ही जिले में होते है। अन्य कार्यो को कभी किसी भी पंचायत को पिछले पांच वर्षो में जनपद और जिलास्तर पर आबंटित नहीं किया गया है। जबकि जिले में सरपंचो द्वारा अन्य कार्याे के बारे मंे पूछे जाने पर उन्हें केवल कार्यो के प्रतिबंध होने की जानकारी ही जिम्मेदारों द्वारा दी गई। जिससे सरपंच कभी उन कार्याे को नहीं करवा पाया, लेकिन आदेश में उल्लेखित कार्य सूची के अनुसार स्पष्ट है कि प्रदेश के अन्य जिलो में पंचायतो मंे वह कार्य कराए गए है, संभवतः तभी मटेरियल और मजदूरी के व्यय के रेश्यों का संतुलन बिगड़ रहा है। जिसमें बालाघाट जिले के सरपंचों की कोई गलती नहीं है लेकिन उनके लिए गेंहू के साथ घुन भी पिसा जाने जैसी स्थिति हो गई है। जिले में जानकारी के अनुसार केवल मजदूरी का काम पंचायतो में सरपंचो द्वारा करवाया गया है। जबकि सामग्री का व्यय, अन्य जिलो ने करवाकर मलाई छानी है।

ज्ञात हो कि पूर्व में भी मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 14 वें वित्त आयोग की पंचायत को सालाना मिलने वाली राशि को भी 15 वें वित्त में परिवर्तित कर टाईड और अनटाईड कर दिया गया। जिससे सरपंच, पंचायतो में पंचायत की जरूरत के अनुसार काम नहीं कर पा रहे है। यदि किसी पंचायत में काम भी हो रहा है तो वह राजनीतिक जनप्रतिनिधि के कृपापात्र पंचायत सरपंच या ऐसी पंचायतें, जिसकी स्वयं की आय हो, वही हो रहा है। जिसका भी औसत नहीं के बराबर है। सरकार का हालिया आदेश सीधे तौर पंचायतीराज व्यवस्था को खत्म करना और ग्रामीण मजदूरों को काम के लिए गांव से पलायन होने पर मजबूर करने जैसा है।

जिला सरपंच संघ ने प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री और जिले के पूर्व सांसद प्रहलाद पटेल से मांग की है कि वह जिले को भलीभांति जानते है। जिससे उन्हें स्पष्ट है कि जिले में मजदूरी का काम ज्यादा है, जिसे देखते हुए बालाघाट जिले के लिए इस आदेश को शिथिल किया जाए, ताकि ग्रामीण मजदूरों को काम मिल सके और काम के अभाव में पलायन करने को मजबूर ना हो।

जिला सरपंच संघ अध्यक्ष वैभवसिंह बिसेन, गौरीशंकर मोहारे, जिला सचिव आनंद बिसेन, नितेश कटरे, ब्लॉक अध्यक्ष पुष्पेन्द्र देशमुख, धनेश्वरी मरावी, चेतन पटले, विजय सहारे, शिव कुमार उईके, उमेश पटले, प्रकाश बाहे, ललित कबीरे, सावन पिछोड़े, शिवलाल सैयाम ने कहा कि जल्द ही जिला सरपंच संघ की समस्त ब्लॉक और जिला पदाधिकारियों के साथ संयुक्त बैठक इस आदेश को लेकर की जाएगी। जिसमें आगामी रणनीति तैयार की जाएगी। 


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

दृंढशक्ति फाउंडेशन मना रहा पौधारोपण महोत्सव : स्कूली विद्यार्थियों से …


प्रकृति से विद्यार्थियों को जोड़ना ही पौधारोपण महोत्सव का ध्येय - बरखा

बालाघाट में दृंढशक्ति फाउंडेशन जुलाई माह को पौधारोपण महोत्सव के रूप में मना रहा है। जिसमें फाउंडेशन, पर्यावरण संरक्षण को लेकर चरणबद्व तरीके से पौधारोपण कर रहा है। खास बात यह है कि अपने पौधारोपण महोत्सव के दौरान किए जा रहे पौधारोपण कार्यक्रम से फाउंडेशन ने स्कूली बच्चों को जोड़ा है, ताकि वह प्रकृति को समझ सके। यही कारण है कि दृढ़शक्ति फाउंडेशन ने पौधारोपण की शुरूआत स्कूली बच्चो के हाथो से की। नगर के सर्वोदय इंटरनेशनल इंग्लिश स्कूल के बच्चों के साथ फाउंडेशन टीम ने पौधारोपण किया। इस दौरान अध्यक्ष बरखा नाग गंगवानी, आशा बेदी, अश्विन तिवारी, प्रतिभा कनोजिया, मानवी श्रीवास्तव, श्रुति तिवारी, मोना लालवानी, भारती गंगवानी, ओमेश्वरी ऐडे, राहुल बोरकर, मृणाली खोब्रागढ़े, नंदिनी परिहार, सीमा गुप्ता, आशुतोष डहरवाल, अजीत चौधरी सहित अन्य उपस्थित थे।

यही नहीं बल्कि पौधारोपण महोत्सव अभियान से स्कूली बच्चों से ना केवल फाउंडेशन ने प्रकृति से जुड़ाव के भाव से पौधारोपण कराया अपितु स्कूलवार स्कूली बच्चो की ड्राईंग प्रतियोगिता भी कराई गई। सर्वोदय स्कूल में कक्षा तीसरी से लेकर दसवीं तक बच्चों के आयोजित प्रकृति पर ड्राईग प्रतियोगिता में करीब 70 बच्चों ने हिस्सा लिया। सभी को संस्था द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। वहीं स्कूल के कक्षा चौथी की छात्रा मनीषा विश्वकर्मा ने ड्राईंग में प्रथम स्थान हासिल किया। जिससे संस्था की ओर प्रमाण पत्र और शील्ड से सम्मानित किया गया।

फाउंडेशन अध्यक्ष अध्यक्ष बरखा नाग गंगवानी ने बताया कि पर्यावरण लगातार बिगड़ रहा है। जिससे मौसम पर इसका सीधा असर पड़ रहा है। जिसके कारण लोगो और विशेषकर बच्चों एवं आज की युवा पीढ़ी को पर्यावरण के प्रति जागरूक कराना अत्यंत जरूरी है। ये बारे किताबों में तो पढ़ाई जाती है किंतु आज के समय में टेक्नॉलजी इतनी बढ़ गई है,बढ़ती जनसंख्या और विकास के नाम पर ना जाने कितने वृक्षों को जंगलों को काटकर उस जमीन को इस्तेमाल किया जा रहा है। जिससे वातावरण तो दूषित हो ही रहा है साथ ही इसका सीधा प्रभाव हमारी पृथ्वी पे पढ़ रहा है। लगातार पिछले कुछ वर्षों से यह हमें देखने को मिल रहा है। हर बार गर्मी का तापमान बढ़ता जा रहा है। पानी का स्तर घट रहा है और हम आगे बढ़ने की दौड़ में प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। इससे हमारा ही नुकसान हो रहा है। जिसे देखते हुए दृंढशक्ति फाउंडेशन ने एक कदम आगे बढ़ाया है, विशेषकर बच्चों और युवा पीढ़ी को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने का और इसी उद्देश्य को लेकर फाउंडेशन ने पौधारोपण महोत्सव में बच्चों और युवा पीढ़ी को जोड़ा है और उनके साथ पौधारोपण महोत्सव हम मना रहे है। उन्होंने बताया कि फाउंडेशन शहर के सभी शिक्षण संस्थान में जाकर भी पूरे माह विद्यार्थियों के साथ इस महोत्सव को मनाएगा। इससे हमारा मुख्य उद्देश्य आने वाली पीढ़ी को पर्यावरण के प्रति सचेत और जागरूक करना है। दृंढशक्ति फाउंडेशन इस महोत्सव के माध्यम से सभी से अपील करता है कि वह इस महोत्सव में शामिल होकर, पौधे अवश्य लगाए। चूंकि प्रकृति को सुरक्षित करने की यह हमारी स्वयं की भी जिम्मेदारी है। 


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

आपदा के समय सामग्रियों और व्यवस्थाओं की कमी नहीं होनी …


शिक्षक अनुपस्थित हो या स्कूल बंद मिले तो शिक्षक से पहले जनशिक्षक व प्राचार्य पर हो कार्रवाई

पंचायत स्कूल और आंगनवाड़ी क्षतिग्रस्त भवनों में संचालित नहीं हों

कलेक्टर डॉ.गिरीश कुमार मिश्रा ने टीएल बैठक में समस्त एसडीएम, होमगार्ड और सम्बंधित विभागों से कहा कि बाढ़ व आपदा के समय किसी भी सामग्री और व्यवस्थाओं की कमी नहीं रहे। जो स्थल पूर्व के वर्षों में प्रभावित हुए है उन पर खासतौर पर नजर रखें। साथ ही उन स्थलों पर गोताखोर, नाविक, तैराक और राशन सामग्री के साथ ही स्वास्थ्य केंद्रों पर आवश्यक दवाइयां उपलब्ध रहे। इसके लिए एसडीएम और एसडीओपी उन क्षेत्रों का दौरा कर पूर्व के प्रभावित गांवों में बैठक कर व्यबस्थाओ के बारे में अवगत कराएं। वहीं डेम से कनेक्ट गांवो में ही दल तैनात रखें। एसडीएम अपने स्तर पर रिहल्सल कर ले तो बेहतर होगा। खतरे वाले स्थानों को चिन्हित करें और ऐसे स्थलों पर साइनेज लगाएं। सभी एसडीएम तैयारी रखें इसके लिए पृथक से बैठक जल्दी की जाएगी। बैठक में अपर कलेक्टर जीएस धुर्वे, एसडीएम श्री गोपाल सोनी, संयुक्त कलेक्टर श्री केसी ठाकुर, डिप्टी कलेक्टर श्री एमआर कोल व सभी विभाग प्रमुख मौजूद रहें। जबकि अनुविभागीय अमला वीसी के माध्यम से जुड़ा।

पीडब्ल्यूडी, एमपीआरडीसी, आरईएस, डब्ल्यूआरडी व पीएमजीएसवाय प्रमाण पत्र देंगे

बैठक में सड़को पुल-पुलियों और निर्माण कार्यो की समीक्षा करते हुए कलेक्टर डॉ. मिश्रा ने निर्माण कार्यो से जुड़े विभागों से कहा कि प्रमाण पत्र देंगे। प्रमाण पत्र में ऐसे जोखिम भरे स्थल जहां पानी भर जाने से घटना की संभावना है। जिसमें पुल-पुलिया, सड़कें और निर्माण स्थल शामिल है। इन पर पूरी तरह साइनेज लगाने के सम्बंध में प्रमाणित करना होगा। साथ ही एसडीएम निरीक्षण करते हुए आपदा वाले क्षेत्रों का दौरा करते समय शासकीय उचित मूल्य की दुकानों और स्वास्थ्य केंद्रों पर राशन सामग्री व दवाइयों की उपलब्धता की जानकारी रखेगे।

भवनों की छतें जोखिम वाली है तो गतिविधि अन्यत्र संचालित हो

कलेक्टर डॉ.मिश्रा ने महिला बाल विकास, जनजाति कार्य, शिक्षा, डीपीसी और जिपं को निर्देश दिए है कि जोखिम भरे भवनों में कोई गतिविधि संचालित नहीं हो। जैसे- आंगनवाड़ी, स्कूल और पंचायत इसके लिए स्थानीय स्तर पर कोई अन्य स्थल का चयन करें। ऐसे जोखिम वाले स्थलों को चिन्हांकित कर सूची भी प्रदान करें। जिन्हें खनिज प्रतिष्ठान मद से आने वाले समय में दुरुस्त किया जा सकें।

शिक्षकों की उपस्थिति एसडीएम सुनिश्चित करें

कलेक्टर डॉ. मिश्रा ने टीएल बैठक में समस्त एसडीएम को स्कूलों के संचालन के सम्बंध में निर्देशित किया है। उन्होंने कहा कि कही भी शिक्षक अनुपस्थित है या स्कूल नहीं खुले है। उन स्थानों पर शिक्षक पर कार्यवाही से पहले जनशिक्षक और प्राचार्य पर सुनिश्चित होना चाहिए। इनके बाद सम्बंधित शिक्षक पर कार्यवाही हो।


PostImage

P10NEWS

July 11, 2024   

PostImage

LOYLD METAL SOCIAL WORK : नगरपंचायत एटापल्ली येथे बस व …


SOCIAL NEWS : नगरपंचायत एटापल्ली येथे बस व रुग्णवाहिका लोकार्पण सोहळा संपन्न.

गडचिरोली/10 :- लॉयड मेटल्स अँड एनर्जी लिमिटेड कंपनीच्या वतीने एटापल्ली नगरपंचायत क्षेत्रातील शाळकरी विद्यार्थ्यांन करिता दिलेले बस व एटापल्ली तालुक्यातील नागरिकांना वेळीच उपचार मिळण्याकरिता रुग्णवाहिकेचे लोकार्पण सोहळा नगरपंचायत एटापल्ली तर्फे नगरपंचायतीच्या प्रांगणात आयोजित करण्यात आले होते.सदर बस व रुग्णवाहिकेचे लोकार्पण मा.दिपयंती पेंदाम नगराध्यक्षा नगरपंचायत एटापल्ली व मा.एस.व्यंकटेश्वर व्यवस्थापकीय संचालक लॉयड मेटल्स कंपनी यांच्या हस्ते झाले.लोकार्पण सोहळ्या नंतर उपस्तीत प्रमुख पाहुणे म्हणून लाभलेले मा.एस.व्यंकटेश्वर व्यवस्थापकीय संचालक लॉयड मेटल्स कंपनी यांनी उपस्तीत नागरिकांना मार्गदर्शन करताना म्हणाले आम्ही एटापल्लीच्या शाळकरी विद्यार्थ्यांना बस दिले,रुग्णांना वेळीच उपचार मिळावा याकरिता रुग्णवाहिका उपलब्ध करून दिले,लायड मेटल्स कंपनीचे प्रेम एटापल्ली करांवर आहे हे यामुळे शक्य झाले असे त्यांनी म्हणाले व कार्यक्रमाचे आभार प्रदर्शन मा.जितेंद्र टिकले नगरसेवक यांनी लॉयड मेटल्स अँड एनर्जी लिमिटेड कंपनीचे व उपस्तीत प्रमुख पाहुण्यांचे आभार मानले. याप्रसंगी प्रमुख पाहुणे म्हणून मा.चैतन्य कदम उपविभागीय पोलीस अधिकारी एटापल्ली,मा.घागुर्डे साहेब तहसीलदार एटापल्ली, मा.आदीनाथ आंधळे गटविकास अधिकारी एटापल्ली, मा.निलिमा खोब्रागडे वनपरिक्षेत्र अधिकारी एटापल्ली, मा.ऋषिकेश बुरडकर गटशिक्षण अधिकारी, मा.साईकुमार सर, मा.बलराम सोमनानी, मा.राघवेंद्र सुल्वावार बांधकाम सभापती नगरपंचायत एटापल्ली, मा.नामदेव हिचामी पाणीपुरवठा सभापती, जितेंद्र टिकले नगरसेवक, राहुल कुळमेथे नगरसेवक, निजान पेंदाम नगरसेवक, निर्मला कोंडबत्तुलवार नगरसेविका, निर्मला हिचामी नगरसेविका तसेच विद्यार्थ्यांचे पालकवर्ग नागरिक मोठ्या संख्येने उपस्तीत होते.


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

एक पेड़ मां के नाम कार्यक्रम के तहत साधु - …


 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए नरेंद्र मोदी विचार मंच ने पूरे देश में एक पेड़ मां के नाम अभियान की शुरुआत कर मंच के पदाधिकारियों के द्वारा एक पेड़ माँ के नाम लगाने का संदेश देते हुवे वृक्षारोपण किया जा रहा है। इसी के तहत चित्रकुट के पुलिस चौकी में , दिसंबर अखाड़े के स्कूल परिसर में तथा चित्रकुट के मुख्य सड़क पर बने डिवाइडर एवम् सीतापुर कालोनी में नरेंद्र मोदी विचार मंच के मुख्य राष्ट्रीय महासचिव सूरज ब्रम्हे, साधु - संत बौद्धिक मंच मध्यप्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष श्री श्री 1008 श्री लल्ली महराज , उत्तर प्रदेश साधु - संत बौद्धिक मंच के प्रदेश अध्यक्ष श्री श्री 1008 श्री दिव्य जीवन दास महराज , प्रोफेसर श्री त्रिपाठी, महिला शाखा की राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमती कविता साहू, चित्रकुट के जिलाध्यक्ष संदीप द्विवेदी की उपस्थिति में एक पेड़ माँ के नाम कार्यक्रम के तहत वृक्षारोपण कर जनता को एक पेड़ अपनी मां के नाम लगाने के लिए संदेश दिया साथ ही देश के प्रत्येक व्यक्ति को एक पेड़ मां के नाम लगाने के लिए प्रेरित किया। वृक्षा रोपड़ के पश्चात केशव गढ़ में बैठक आयोजित की गई। बैठक में संगठन को मज़बूत बनाने की रुप रेखा तैयार की गई। वृक्षा रोपड़ कार्यक्रम में प्रमुख रूप से सूरज ब्रम्हे, श्री श्री 1008 श्री लल्ली महराज , श्री श्री 1008 श्री दिव्य जीवन दास महराज , संजीव द्विवेदी, श्रीमती कविता साहू, श्रीमती चंद्रकला सोनी, वन कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष विभाष मिश्रा, भोला नाथ महराज, उत्तरप्रदेश के उपाध्यक्ष केशव महराज, आकाश मुंडे, महराज दयानिधि शुक्ला, सीतापुर थाने के थानेदार तथा उनका स्टॉप एवम् अन्य पदाधिकरी उपस्थित रहे। मंच का संचालन नरेन्द्र त्रिपाठी ने किया । 


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

एक पेड़ माँ के नाम" शास. उच्च. माध्य. विद्यालय मोहगांव …


'एक पेड़ माँ के नाम " शासन के निर्देशानुसार जिले के समस्त विद्यालय में 1 से 15 जुलाई तक एक पेड़ माँ के नाम अभियान के अंतर्गत दिनांक 10 जुलाई को शास. उच्च. माध्य. विद्यालय मोहगांव ध. के प्रांगण में और खेल मैदान के आस पास प्राचार्य के मार्गदर्शन में शाला के समस्त शिक्षक/शिक्षिकाओं एवं छात्र / छात्राओं द्वारा वृक्षारोपण का कार्य किया गया जिसमें फलदार और छायादार पौधे लगाये गये जिसमें मुख्य रूप से प्राचार्य श्री आर. के. माहुले, व्ही. के. नागेश्वर, राजेश कुमार पालेवार, ओ. पी. पारधी, सी. एल. आडे, डी एस बिसेन, पुरुषोत्तम लिल्हारे, श्रीमती विशाखा हीरकने, शारदा नगपुरे, भावना ठाकरे, निशा डोंगरे, गोपीचंद कडुकार, आदि का सराहनीय योगदान रहा


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

रामपायली के कस्बीटोला में भगवान सहस्त्रबाहु की हुई प्राण प्रतिष्ठा


कलार समाज के भवन का हुआ लोकार्पण - सहस्त्रबाहु की प्रतिमा एवं शिवलिंग की प्राण प्रतिष्ठा

बालाघाट जिले के वारासिवनी क्षेत्र के रामपायली अंतर्गत कस्बीटोला में कलार समाज के भवन का लोकार्पण और सहस्त्रबाहु की प्रतिमा एवं शिवंिलंग की प्राण प्रतिष्ठा की गई।इस कार्यक्रम में बतौर अतिथि पूर्व केबिनेट मंत्री प्रदीप जायसवाल, सहस्त्रबाहु कल्चुरी महासभा राष्ट्रीय महासचिव पंकज चौकसे, मानिक लाल हिरवाने, कलार समाज अध्यक्ष अमृतलाल धुवारे, युवराज धुवारे, प्रकाश राय, सुमित बेनीराम चौरे, पूर्व नपा अध्यक्ष अनिल धुवारे, अभिषेक पिपलेवार, सुनील जायसवाल, श्रीमती श्रीति पुरूषोत्तम पालेवार, राकेश सेवईवार, उषा धुवारे और नोहरसिंह डोहरे उपस्थित थे। जहां विधिवत भवन का लोकार्पण और समाज के आराध्य भगवान सहस्त्रबाहु और शिवलिंग की प्राण प्रतिष्ठा की गई। लोकार्पण और प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के बाद समाज के युवाओं को मोटिवेटर कमलकांत बिठले, सामाजिक न्याय अधिकारी हितेश पिपलेवार, संदीप सोनगढ़े, जयश्री सोनवाने, शोभेन्द्र डहरवाल ने मोटिवेट किया। 

इस दौरान सरपंच देवेन्द्र बारेवार,शिवशंकर मंडलेकर, केवल धुवारे, हुकुमचंद धुवारे, क्षेत्रीय बुढ़ी की महिला कलार समाज संयोजक ऊषा धुवारे, शिखा पिपलेवार, एड. प्रीति राय, दीपाली बारेवार, हेमलता विजयवांशी, चंद्रकांत पिपलेवार, गजेंद्र डहाके साकडी, अलीशा कावडे, दिनेश आदेवार, दीपक वालोदे, बालाराम बलराम डोहरे, बबलू खनोरकर, रोहित डहरवाल, रेवाशंकर सोनकर, आशीष गडपंडे, पारसमणि धुवारे, पूनम खोब्रागढ़े सहित अन्य सामाजिक बंधु उपस्थित थे। समारोह का कुशल मंच संचालन नरेंद्र धुवारे, अंकित पालेवार ने किया। कार्यक्रम में ग्रामीण और सामाजिक लोगो का सहयोग रहा।


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

आदिवासी महिला की मदद के लिए आगे आया रोटरी क्लब …


10 वें बच्चे को जन्म देने वाली प्रसूता को प्रदाय की जरूरी सामग्री

बालाघाट। जिले के मोहगांव नगरपालिका के वार्ड क्रमांक 01 करहू बैगाटोला मोहगांव निवासी जुगती बाई ने जिला अस्पताल में अपने दसवें बच्चे को जन्म दिया। मुश्किल हालातो में सीजेरियन से दसवें बच्चे को जन्म देने वाली जुगतीबाई के साथ केवल, उसकी 9 वर्षीय मासुम बेटी है। ऐसी हालत में प्रसूता महिला के लिए आवश्यक खानपान, नवजात शिशु के दूध, कपड़े और अन्य सामग्री की आवश्यकता की जानकारी होने पर रोटरी क्लब ऑफ वैनगंगा के अध्यक्ष रोटे. अखिल वैद्य और साथियों ने जिला चिकित्सालय पहुंचकर महिला को जरूरी सामग्री प्रदान की। गौरतलब हो कि आदिवासी महिला 35 वर्षीय जुगतीबाई ने 08 जुलाई की रात सीजेरियन ऑपरेशन से दसवें बालक शिशु का जन्म दिया है। जिस वक्त महिला जुगतीबाई को जिले के बिरसा स्वास्थ्य केन्द्र से बच्चे का हाथ निकल जाने की गंभीर हालत में रिफर किया गया था। उसके जिला सीजेरियन ऑपरेशन काफी क्रिटिकल था। ऐसी परिस्थिति में चिकित्सक के पास उसकी बच्चेदानी निकालकर ही ऑपरेशन संभव था, जिसमें अत्यधिक रक्तस्राव होने की गुंजाईश थी और महिला और बच्चे के जीवन को नुकसान भी पहुंच सकता था, लेकिन चिकित्सक डॉ. अर्चना लिल्हारे और सहयोगी स्टॉप ने पूरे जतन के साथ सीजेरियन से ना केवल उसकी सुरक्षित डिलेवरी कराई बल्कि महिला के बच्चेदानी को भी निकालने की जरूरत नहीं पड़ी। डॉ. अर्चना लिल्हारे की मानें तो मां और बेटे दोनो सुरक्षित है।

अति गरीब है परिवार आशा कार्यकर्ता रेखा कटरे की मानें तो महिला जुगतीबाई पति अकलुसिंह मरावी, 35 वर्ष, मोहगांव नगरपालिका के वार्ड क्रमांक 01 करहू मोहगांव निवासी है, जिसे प्रसव पीड़ा होने पर बिरसा अस्पताल लेकर गए थे। जहां गर्भ के बच्चे का हाथ बाहर आ जाने के कारण उसे सीजेरियन प्रसव के लिए जिला चिकित्सालय लेकर आए। यहां ऑपरेशन ने उसने बेटे को जन्म दिया है। यह उसका दसवां बेटा है। जिसमें पहले जन्मे तीन बच्चो की मौत हो गई। आशा कार्यकर्ता रेखा कटरे ने बताया कि परिवार में पति बाहर कमाने गया है, परिवार की हालत बहुत खराब है, अस्पताल से छुट्टी के बाद महिला के लिए रहने के कोई ठौर ठिकाना भी नहीं है, अभी 06 बच्चों को पड़ोस वाले के यहां रखकर आए है। जानकारी में पता चला कि महिला के पास शासन का किसी भी प्रकार कोई ऐसा प्रमाणिक दस्तावेज नहीं है। जिससे उस परिवार को योजना का लाभ मिल सके। फिलहाल सीजेरियन के बाद, महिला को विशेष देखरेख में रखा गया है।

रोटरी क्लब ऑफ वैनगंगा ने की मदद जिले की सामाजिक संस्था रोटरी क्लब ऑफ वैनगंगा अध्यक्ष अखिल वैद्य ने बताया कि अस्पताल से जानकारी मिलने के बाद क्लब सदस्यो निलेश पटेल, अर्चित नेमा और भूपिन्दरसिंघ के साथ महिला के लिए फल, मां के साथ अस्पताल पहुंची बालिका के कपड़े, नवजात बच्चे के लिए दूध का डब्बा और अन्य खाद्य सामग्री लेकर जाकर दी है। अध्यक्ष अखिल वैद्य ने बताया कि अस्पताल से महिला की जानकारी के बाद वे यहां पहुंचे थे। जिसके बारे में और जानकारी मिलने पर हमने प्रण किए है, महिला के शासकीय दस्तावेज बनवाने से लेकर उसे शासन की मदद दिलाने तक हरसंभव प्रयास करेंगे।


PostImage

Chandrawar Media Service

July 11, 2024   

PostImage

केन्द्रीय विद्यालय भरवेली में राजस्थानी महिला मंडल ने किया पौधारोपण


शाला प्राचार्य और स्कूली विद्यार्थियों के साथ रोपा पौधा

बालाघाट। हरित आवरण के साथ पर्यावरण बचाने में जुटी राजस्थानी महिला मंडल की बहनों ने पौधारोपण की कड़ी में 10 जुलाई को भरवेली केन्द्रीय विद्यालय के परिसर में शाला प्राचार्य, शालेय परिवार और स्कूली विद्यार्थियो के साथ पौधारोपण किया। इस दौरान राजस्थानी महिला मंडल के पौधारोपण कार्यक्रम की अतिथि राधिका गोपाल सोनी के अलावा महिला मंडल अध्यक्ष ज्योति शर्मा, पूर्व जिला अध्यक्ष राधा शर्मा, श्रीमती राधा शर्मा, प्राचार्य पंकज जैन, श्रीमती दीपशिखा जैन, शारदा शर्मा, अंजलि पालीवाल, ज्योति खेमकाजी, सविता किशोर शर्मा, किरण राजेंद्र शर्मा , किरण सोनी, शिक्षक डोंगरे, नीतीश, प्रदीप, संजू, मनोज सोनबिसरे सहित महिला मंडल की बहनें और विद्यार्थी उपस्थित थे।

अतिथि राधिका गोपाल सोनी ने कहा कि अगर हमें जीवन बचाना है तो वृक्ष लगाना होगा। केंद्रीय विद्यालय प्राचार्य पंकज जैन ने कहा कि भूमि का श्रृंगार पेड़ है, हम पर्यावरण को बचाने की बात तो करते है लेकिन इसकी ओर ध्यान नहीं देते है, लेकिन केंद्रीय विद्यालय, सदैव पर्यावरण संरक्षण के प्रयासों में जुटा रहता है और हम स्कूली बच्चो में भी यह सोच पैदा करते है कि हम अपनी धरा, भूमि हरा भरा रखें और अपने पर्यावरण को स्वच्छ बनाए ताकि हमें शुद्ध ऑक्सीजन मिल सके।

सर्व राजस्थानी महिला मंडल की अध्यक्ष श्रीमती ज्योति शर्मा ने बताया कि राजस्थानी समाज द्वारा बालाघाट नगर सहित संपूर्ण जिले में पर्यावरण बचाने के संकल्प के साथ स्कूलों, छात्रावास और खुले स्थल पर पौधारोपण किया जा रहा है। 


PostImage

Chandrawar Media Service

July 10, 2024   

PostImage

लालबर्रा सरपंच संघ की आवश्यक बैठक 12 जुलाई को


बैठक में सभी सरपंचो की उपस्थिति प्रार्थनीय है :- चेतनलाल पटले

लालबर्रा। स्थानीय जनपद पंचायत के सभा कक्ष में 12 जुलाई दिन शुक्रवार को सरपंच संघ लालबर्रा की आवश्यक बैठक आहूत की गई है। तत्तसंबंध में जानकारी देते हुए लालबर्रा ब्लॉक सरपंच संघ अध्यक्ष चेतन पटले ने बताया कि 12 जुलाई दिन शुक्रवार को सरपंच संघ की बैठक आहूत की गई है जिसमें सभी सरपंच गण अपने-अपने ग्राम पंचायत की समस्या एवं वर्तमान समय में मनरेगा के संशोधन नियमों सहित अन्य समस्याओ एवं ग्राम पंचायत विकास हित में विशेष निर्णय लेने हेतु विचार विमर्श किया जावेगा उक्त बैठक में समस्त सरपंच साथियों की उपस्थिति प्रार्थनीय है।