PostImage

Unique aqua sales and service

April 18, 2024   

PostImage

Gharkul Yojana : नागपुर में अब मिलेगा सिर्फ 8 लाख …


दोस्तों बड़े शहर में खुद का एक अच्छा घर होना हर किसी वेक्ति का सपना होता है. लेकिन आज के इस महंगाई के ज़माने में. बड़े शहर में खुद का घर लेने के लिए लगभक 20 से 30 लाख रुपये लगते है. जो की एक आम के लिए बहुत ज्यादा होते है. तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे एक ऐसी योजना के बारे में जिससे आप बड़े शहर में सिर्फ 8 लाख रुपये में खुद का घर ले सकते है. तो दोस्तों चलिए जानते है इस योजना के बारे में

Gharkul Yojana

अगर हम आपको बोलें की 8 लाख रुपये में नागपुर में आप खुद का घर ले सकते है. तो क्या आप लोग हमारी बात पर यकीन करोगे नहीं न. लेकिन NIT Gharkul Yojana घरकुल योजना के तहत अब नागपुर में 8 लाख में आप खुद का घर ले सकते है.

Gharkul Yojana

Nagpur Improvement Trust ने घरकुल योजना के तहत flat scheme बनाई है. जिसे आम आदमी ले सकता है. इस scheme में 1BHK 2BHK और 3BHK flats है. अभी तक 508 खाली है. और फ्लैट खाली रहने का में कारन ये है की. लोग इस घरगुल योजना के बारे में जानते नहीं है. और इसे अप्लाय कैसे करे वो नहीं जानते। इस flats में 24 घंटे Electricity, Security Guard, Water Facility Parking Facility और बहुत सारी सुविधा मिलती है.

 

Gharkul Yojana Nagpur : flats Location

1. Mauja Chikhali (2) Mauja Chikhali Devasthan (3) Kalamna Market (4) Mauja Pardi (5) Shesh Nagar (6) Bhamati (7) Hill Road (8) Mankapur (9) Wanjri (10) Bidipeth (11) Nandvan (12) Ambazari इस एरिया में है.

ये भी पढ़े : Second Hand Car, Second Hand Car Price : Second Hand Cars खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

 

Gharkul Yojana How To Apply अप्लाय कैसे करे

 तो इसमें अप्लाय करने के लिए आपको NIT Nagpur Improvement Trust के वेबसइट पर Gharkul Yojana का PDF मिल जाएगा. Gharkul Yojana PDF के लिए यहां क्लिक करे 👉👉👉 Gharkul Yojana PDF


ये भी पढ़े : Whatsapp New Features : WhatsApp ने लाया जबरदस्त फीचर आप जिसके लिए लगाएंगे Status उसे देखना ही पड़ेगा

हम आशा करते है की आपको ये जानकारी पसंद आई होंगी दोस्तों इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर कीजिए और ऐसेही अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.

Gharkul Yojana


PostImage

pran

April 16, 2024   

PostImage

आयकर विभाग से टीडीएस पर एसएमएस मिला है? घबराएँ नहीं


वेतनभोगी करदाताओं को आयकर विभाग द्वारा भेजे गए एसएमएस का उद्देश्य टीडीएस कटौती के बारे में स्पष्टता प्रदान करना है। हालांकि, कुछ व्यक्तियों ने संदेश की गलत व्याख्या की होगी और वे सोच रहे होंगे कि क्या उन्हें अतिरिक्त कर देना है। उन्हें क्या करना चाहिए, यहाँ बताया गया है।

 

देश भर के कुछ वेतनभोगी करदाताओं को आयकर विभाग से उनके स्रोत पर काटे गए कुल कर (टीडीएस) के बारे में संदेश मिले होंगे। एसएमएस के रूप में भेजे गए इस संदेश में 31 दिसंबर को समाप्त तिमाही के लिए नियोक्ता द्वारा काटे गए टीडीएस और वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए संचयी टीडीएस का विवरण शामिल है।

 

संदेश में लिखा है, "31 दिसंबर को समाप्त तिमाही के लिए पैन xxx के नियोक्ता द्वारा कुल टीडीएस ₹xxx है और वित्त वर्ष 23-24 के लिए संचयी टीडीएस ₹xxx है। विवरण के लिए 26AS देखें। आईटीडी टीम," जिसका उद्देश्य अंतिम तिमाही और पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान जमा किए गए टीडीएस की पावती प्रदान करना है।

 

हालाँकि, कुछ करदाताओं ने इस संदेश की गलत व्याख्या की होगी, तथा अनुमान लगाया होगा कि क्या उन पर विभाग का अधिक कर बकाया है।

 

यह एसएमएस अलर्ट सेवा 2016 के अंत में करदाताओं को उनकी कुल टीडीएस कटौतियों के बारे में सूचित करने के उद्देश्य से शुरू की गई थी।

 

यह व्यक्तियों के लिए अपने कार्यालय वेतन पर्चियों को संदेश में दिए गए विवरण से मिलान करने के लिए एक उपयोगी उपकरण के रूप में कार्य करता है।

 

दरअसल, वेतनभोगी व्यक्तियों को वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने के लिए मध्य जून तक इंतजार करना होगा क्योंकि यह वह समय है जब नियोक्ता फॉर्म 16 जारी करते हैं।

 

नियम के अनुसार, नियोक्ताओं को हर साल 15 जून को या उससे पहले फॉर्म 16 जारी करना होगा, जो उस वित्तीय वर्ष के तुरंत बाद होता है जिसमें कर काटा जाता है।

 

हालांकि, जल्दी फाइल करने के इच्छुक करदाता आयकर विभाग द्वारा सक्षम ई-फाइलिंग पोर्टल का उपयोग कर सकते हैं।

 

इस विकल्प के बावजूद, विशेषज्ञ यह सुनिश्चित करने के लिए कुछ समय तक प्रतीक्षा करने का सुझाव देते हैं कि फॉर्म 26AS और AIS विधिवत अपडेट किए गए हैं, जिससे ITR फाइलिंग प्रक्रिया को सुव्यवस्थित किया जा सके।

 

फॉर्म 16, नियोक्ता द्वारा जारी किया जाने वाला एक प्रमाण पत्र है, जिसमें आईटीआर दाखिल करने के लिए आवश्यक जानकारी होती है, जिसमें नियोक्ता और कर्मचारी के बीच विभिन्न लेनदेन के लिए टीडीएस और स्रोत पर एकत्रित कर (टीसीएस) का विवरण शामिल होता है।


PostImage

Sanket dhoke

April 4, 2024   

PostImage

Gold Rates Increase ; सोन्याच्या दारा मध्ये झाली मोठी वाढ


Gold Rates Increase : Nagpur : सोन्याच्या दरात दररोज होत असलेल्या वाढीमुळे ग्राहक नाराज झाले असून गुंतवणूकदारांना फायदा होत आहे. Nagpur सराफा बाजारात Gold Rates ३१ मार्चला ६८,५०० रुपयांवरून ३ मार्चला ६९,८०० रुपयांपर्यंत वाढला. 

अर्थात अवघ्या चार दिवसांत 1300 रुपयांनी वाढ झाली आहे. तसेच चांदीचा भाव 3,400 रुपयांनी वाढून 78,700 रुपये प्रति किलो झाला आहे. दरातील ही वाढ कायम राहणार असल्याचे जाणकारांचे मत आहे.

मार्च महिन्यात १० ग्रॅम शुद्ध सोन्याच्या दरात ५३०० रुपयांची वाढ झाली आहे. या महिन्यात गुंतवणूकदारांना ८.५२ टक्के परतावा मिळाला आहे. आता एप्रिल महिन्यात किती नफा मिळतो याकडे गुंतवणूकदारांचे लक्ष लागले आहे.

 बुधवारी सोन्याचा भाव 69,800 रुपये असतानाही ग्राहकांना 3 टक्के जीएसटीसह 71,894 रुपयांना खरेदी करावी लागली. तसेच 78,700 रुपये प्रति किलो असलेल्या चांदीचा भाव जीएसटीसह 81,061 रुपयांवर पोहोचला.

 वाढत्या दरामुळे दोन्ही मौल्यवान धातूंच्या किमती सर्वसामान्यांच्या आवाक्याबाहेर गेल्या आहेत. भाव आणखी घसरतील की नाही, यावर भाष्य करणे कठीण असल्याचे या क्षेत्रातील तज्ज्ञांचे मत आहे.

 Nagpur बुलियन असोसिएशनचे अध्यक्ष पुरुषोत्तम कावळे आणि सचिव राजेश रोकडे यांनी सांगितले की, या दरवाढीमुळे जुने ग्राहक आणि गुंतवणूकदार खूश आहेत. ते म्हणाले की, किंमत वाढल्यानंतरही 9 एप्रिल रोजी सोने-चांदी खरेदीसाठी ग्राहकांची गर्दी होणार आहे.

अधिक वाचा :- Ajche Rashibhavish ; ४ एप्रिल २०२४ ; का आहे आजचे तुमचे राशी भविष्य 

अधिक वाचा :- Breaking News ; Pratibha Dhanorkar कडे आहे इतकी संपत्ती आणि घेतले इतके कर्जं, विवरणपत्रातून आले समोर 

अधिक वाचा :- Breaking News ; आता ढकलपास पद्धत होणार बंद - १ली ते ८वी साठी सरकारने घेतला मोठा निर्णय

अधिक वाचा :-   Lok Sabha Election ; चंद्रपूरातील उमेदवाराने शिध्यात महागडी व्हिस्की आणि बिअर देण्याचे केले आश्वासन

 

*अशाच बातम्य साठी Vidharbh News What's App ग्रुप ला जॉईन व्हा, What's app ग्रुप ला जॉईन होण्यसाठी खालील लिंक वर  क्लिक करा.*

 

         

⬇️

 

https://chat.whatsapp.com/IPm3HgmL9MiJq9rXSGzsAW

 

*आमच्या vidharbh News च्या What's App चॅनेलला फॉलो करा*

https://whatsapp.com/channel/0029VaHnI2BIXnlrTXSG3A1w

 

*वेबाईटवर जाहिरात देण्यासाठी खालील नंबरवर संपर्क करा*

 

☎️ : _७७५८९८६७९८_

*_जॉईन व्हा, बातमी वाचा, शेयर करा._*


PostImage

Rameshmohurle

March 18, 2024   

PostImage

Post Office Masik Yojana : पेन्शनचे टेन्शन सोडा पोस्टातून मिळवा …


Post Office Monthly Savings Scheme : पेन्शनचे टेन्शन न घेता पती- पत्नीने पोस्टातील मासिक बचत योजना सुरू केल्यास निवृत्तीनंतरचा ताण कमी होऊ शकतो. पोस्टाच्या या योजनेत मासिक व्याज गुंतवणूकदारांना मिळते. त्यामुळे दरमहा लागणाऱ्या खर्चाची विना टेन्शन तजविज करता येते, तसेच गुंतवणूक केलेली रक्कमही सुरक्षित राहते.

खासगी, सहकारी बँका, पतपेढ्या, (Multistate Credit Societies) मल्टिस्टेट क्रेडिट सोसायट्यांमध्ये गुंतवणूक केल्यानंतर येणारे वाईट अनुभव टाळण्यासाठी पोस्ट कार्यालयातील गुंतवणूक करण्याचा कल वाढत आहे. पोस्ट खात्यात योजनेत गुंतवणूक केल्यानंतर उत्कृष्ट परतावाही मिळू शकतो. मासिक बचत योजनेचे खाते तारखेपासून महिना पूर्ण झाल्यानंतर व्याजाचा लाभ ग्राहकांना मिळतो. मासिक आधारावर हे व्याज दिले जाते.

काय आहे पोस्ट ऑफिस मासिक बचत योजना? (Post Office Monthly Savings Scheme) 
ज्याचे वय 60 वर्षापेक्षा कमी आहे, त्या नागरिकांसाठी डाक विभागाची मासिक बचत योजना असून त्यात दोन प्रकारचे खाते आहेत. वैयक्तिक व संयुक्तिक खाते उघडता येते.

दोन प्रकारचे खाते : 
1. वैयक्तिक : पोस्टाच्या मासिक बचत योजनेत कमाल 9 लाख रुपये जमा करण्याची मुभा पोस्टातर्फे देण्यात आली आहे.'
2. संयुक्त : पोस्टाच्या मासिक बचत योजनेत पती-पत्नीचे संयुक्त खाते उघडता येते. या योजनेत कमाल 15 लाख रुपये गुंतवणूक करता येते.

किती वर्षांसाठी गुंतवणूक?
मासिक बचत योजनेतील गुंतवणूक पाच वर्षांची आहे. या गुंतवणुकीवर 1 एप्रिल 2023 पासून 7.4 टक्के दराने द.सा.द.शे. व्याज गुंतवणूक जशी कराल, त्या पद्धतीने मिळते. मासिक स्वरूपातही व्याज मिळण्याची सोय आहे.

किती गुंतवणूक केली तर किती मिळतात?
तर वर्षाला 66,600 रुपये मिळतात : वैयक्तिक मासिक बचत खात्यात 9 लाख रुपयांची गुंतवणूक केल्यास पाच वर्षापर्यंत दरमहा 5,500 रुपये व्याज मिळते.

तर वर्षाला 1 लाख 11 हजार मिळतात : पोस्टाच्या संयुक्त मासिक बचत खात्यात 15 लाखांची गुतवणूक केल्यास दरमहा 9 हजार 250 याप्रमाणे 1 लाख 11 हजार मिळते.

 ज्येष्ठांना 8.2 टक्के व्याजदर :
सिनिअर सिटिजन्स सेव्हिंग खात्यात 30 लाख रुपयांचे डिपॉझिट केले तर दसादशे 8.2 टक्क्यांप्रमाणे तीन महिन्याला 61 हजार 499 व्याज मिळते.

12 भागांत विभागला जातो परतावा
एकूण वार्षिक परतावा 12 भागांत विभागला जातो. या योजनेत तुम्हाला सध्या 7.4 टक्के दराने वार्षिक व्याज मिळत आहे. योजनेतंर्गत एकूण ठेवींच्या वार्षिक व्याजांच्या आधारे परताव्याची मोजणी केली जाते असते, अशी माहिती संबंधित विभागाने दिली.

5 हजार नागरिकांनी काढले खाते
पोस्टाच्या मासिक बचत योजनेत आतापर्यंत पाच हजार 342 नागरिकांनी खाते उघडले आहेत तर हजारांवर ज्येष्ठ नागरिकांनी सिनिअर सिटिझन्स सेव्हिंग खाते उघडले आहे.

Post Office Masik Yojana  पेन्शनचे टेन्शन सोडा पोस्टातून मिळवा वर्षाला 60 हजार रुपये


PostImage

Sanket dhoke

March 17, 2024   

PostImage

SBI INSURANCE POLICY ; SBI मध्ये मृत व्यक्तिची काढली विमा …


यवतमाळ : State Bank of India कडे विश्वासार्ह वित्तीय संस्था म्हणून पाहिले जाते. परंतु, एका प्रकरणात या बँकेने केलेली फसवणूक विश्वासघात झाला आहे.

 

 शेतकऱ्याच्या मृत्यूनंतर विमा पॉलिसी काढण्याचा प्रयत्न झाला. त्यासाठी विविध डावपेचांचा अवलंब करण्यात आला. बँकेचा हा प्रयत्न ग्राहक आयोगाने उघडकीस आणला. शेतकरी कुटुंबाला विमा दव्याचे रु. २० लाख देण्याचे आदेश दिले आहे.

अधिक वाचा :- Nagpur News :- live-in relationship मध्ये राहत आसलेल्या गर्लफ्रेंड ला मरहाण

पांढरकवडा तालुक्यातील कवठा येथील रामेश्वर शंकर झोडे यांचा नदीत बुडून मृत्यू झाला. त्यांच्या मुलाने State Bank of India च्या पटनाबोरी (पांढरकवडा पोलीस स्टेशन) शाखेत विम्याची रक्कम मिळवण्यासाठी दावा केल्यानंतर अशी फसवणूक झाल्याचे समोर आले.

 

 बँक व विमा कंपनीने नुकसान भरपाई देण्यास नकार दिल्याने रामेश्वर झोडे यांचा मुलगा नंदकिशोर झोडे याने यवतमाळ जिल्हा ग्राहक आयोगाकडे तक्रार दाखल केली.

अधिक वाचा :-    Nagpur News :- रेल्वे मध्ये तरुणीशी अश्लील वर्तन करणाऱ्या आरोपीची प्रवाशांनी केली धुलाई

रामेश्वर झोडे यांना State Bank of India च्या पाटणबोरी शाखेतून 64 हजार 300 रुपयांचे पीक कर्ज मंजूर झाले. 16 जून 2019 रोजी त्याच्या खात्यात 61 हजार रुपये जमा झाले. 

 

तीन हजार ३०० रुपये वजा केले. पीक कर्ज देताना विमा Policy घेण्याचे संकेत आहेत. SBI जनरल इन्शुरन्स कंपनी State Bank of India शी संबंधित आहे आणि या संस्थेमार्फत पॉलिसी काढण्याची प्रथा आहे.

अधिक वाचा :-    Today Horoscope ; १७ मार्च २०२४ ; संपत्ती, प्रतिष्ठा वाढेल आणि सरकारकडून लाभ मिळण्याची शक्यता आहे

रामेश्वर झोडे यांच्या मृत्यूनंतर नंदकिशोर झोडे यांनी विम्याचा दावा मिळवण्यासाठी बँकेशी संपर्क साधला. मात्र, रामेश्वर झोडे यांचे पॉलिसी आपल्याकडे नसल्याचे सांगत त्यांना भरपाई नाकारण्यात आली. 

 

२१ ऑगस्ट २०२९ रोजी निधन झाले. त्यावेळी त्यांची कोणतेही पॉलिसी नसल्याचे सांगण्यात आले. यवतमाळ जिल्हा ग्राहक आयोगाकडे दावा दाखल करण्यात आला होता, 

अधिक वाचा :-    Akshay Kumar भारत सरकारला विनंती करत म्हणतो की, संकट काळात नेहमी अमेरिका....

त्यावेळी बँकेने सांगितले होते की, पॉलिसी २६ फेब्रुवारी २०२० ते २५ फेब्रुवारी २०२१ या कालावधीसाठी होती. आयोगाने असा निष्कर्ष काढला की बँकेने पॉलीसी नुसार २०१९ मध्ये प्रत्यक्षात रक्कम कमी केली होती.

 

 पॉलिसीची रक्कम द्यावी लागू नये यासाठी अनेक कारणे पुढे करण्यात आली असल्याचे आयोगाने आपल्या निर्णयात म्हटले आहे.

अधिक वाचा :-    Pulkit Kriti Wedding ; Pulkit Samrat आणि Kriti kharbanda अडकले लग्न बंधनात

बँकेने सादर केलेल्या कागदपत्रांमध्ये अनेक बाबींवरून शंका उपस्थित झाल्या. 26 फेब्रुवारी 2020 रोजी खात्याच्या स्टेटमेंटमध्ये 'मायक्रो इन्शुरन्स' या शीर्षकाखाली 1510 रुपयांची वजावट दिसली. 

 

रामेश्वर झाडे यांचे 21 ऑगस्ट 2019 रोजी निधन झाले. या प्रकरणात आयोगाने आपल्या निर्णयात म्हटले आहे की, बँक आणि विमा कंपनीने आपली पॉलिसी काढण्याचा प्रस्ताव कोणी दिला होता हे स्पष्ट केलेले नाही.

अधिक वाचा :-    Pushpa 2 ; श्रेयस तळपदे पुष्पा 2 लाही आवाज देणार काय ? तो म्हणतो माझी इच्छा तर आहे पण...

 2019 मध्ये कर्ज मंजूर करताना 3,300 रुपये का कापले गेले याचे कोणतेही स्पष्टीकरण देण्यात आले नाही. बँकेने आपली जबाबदारी नीट पार पाडली नसल्याचे स्पष्ट होत असल्याचे आयोगाने म्हटले आहे.

 

बुडून मृत्यू हा अपघात नाही

रामेश्वर शंकर झोडे यांचा मृत्यू अपघाती नव्हता, असा युक्तिवाद SBI जनरल इन्शुरन्स कंपनीने केला होता. 

अधिक वाचा :-    Wardha News ; संपत्तीच्या वादातून बहिणीने भावाच्या घरी केली आत्महत्या

पोस्टमॉर्टम रिपोर्टनुसार रामेश्वर जोडे यांचा मृत्यू अपघाती झाल्याचे स्पष्ट झाले आहे. आयोगाने कंपनीच्या विरोधात निकाल दिला.

 

 सभापती नंदकुमार वाघमारे व सदस्य हेमराज ठाकूर यांनी हा निर्णय दिला आहे. यामध्ये नंदकिशोर झाडे याची बाजू ॲड. रवींद्र सोनटक्के यांनी प्रस्तुत केली होती.

अधिक वाचा :-    Amitabh Bachchan ; अमिताब बच्चन यांना मिळाला डिस्चार्ज, या कारणामुळे रूग्णालयात दाखल झाले होते

 

*अशाच बातम्य साठी Vidharbh News What's App ग्रुप ला जॉईन व्हा, What's app ग्रुप ला जॉईन होण्यसाठी खालील लिंक वर  क्लिक करा.*

 

⬇️

 

https://chat.whatsapp.com/IPm3HgmL9MiJq9rXSGzsAW

 

*आमच्या vidharbh News च्या What's App चॅनेलला फॉलो करा*

https://whatsapp.com/channel/0029VaHnI2BIXnlrTXSG3A1w

 

*वेबाईटवर जाहिरात देण्यासाठी खालील नंबरवर संपर्क करा*

 

☎️ : _७७५८९८६७९८_

*_जॉईन व्हा, बातमी वाचा, शेयर करा._*


PostImage

Ramdas Thuse

March 15, 2024   

PostImage

जागतिक ग्राहक हक्क दिन संपन्न


चिमूर:-

              गांधी सेवा शिक्षण समिती चिमूर व्दारा संचालित राष्ट्रसंत तुकडोजी महाविद्यालय, चिमूर येथे महाविद्यालयाचे प्राचार्य डॉ. अश्विन चंदेल सर यांच्या मार्गदर्शनात कॉमर्स असोसिएशनच्या वतीने जागतिक ग्राहक हक्क दिन साजरा करण्यात आला. या कार्यक्रमाचे अध्यक्ष महाविद्यालयाचे उपप्राचार्य डॉ. प्रफुल बन्सोड हे होते. या कार्यक्रमात वाणिज्य विभाग प्रमुख डॉ.हरेश गजभिये,मराठी विभाग प्रमुख डॉ.कार्तिक पाटील,डॉ.रहांगडाले यांनी मार्गदर्शन केले. मा. प्राचार्य यांनी ग्राहकांनी जागरूक राहून वस्तूंची खरेदी करावी व आपली फसवणुक होऊ नये याविषयी काळजी घ्यावी तसेच फसवणुक झाल्यास ग्राहकाने आपल्या हक्काकरीता सजग असावे असे आपल्या मार्गदर्शनात विद्यार्थ्यांना सांगीतले. या कार्यक्रमाचे प्रास्ताविक डॉ. लक्ष्मण कामडी तसेच संचालन प्रा.निखिल पिसे व आभार प्रदर्शन कु.गौरी कुळमेथे हीने केले. या कार्यक्रमात वाणिज्य शाखेच्या सर्व विद्यार्थ्यांनी सहभाग घेतला होता.


PostImage

Kawadukukudkar

March 11, 2024   

PostImage

Mutual Fund SIP Plan : 4,000 रुपयांच्या गुंतवणुकीवर 20 लाखांपर्यंत …


Mutual Fund SIP Plan :

जेव्हा आपण SIP बद्दल बोलतो, म्युच्युअल फंडाची पद्धतशीर गुंतवणूक योजना, गुंतवणूकदारांना अनेकदा SIP मध्ये किती पैसे गुंतवायला सुरुवात करावी याबद्दल खूप उत्सुकता असते. किती काळासाठी गुंतवणूक करावी आणि जास्त कालावधीसाठी पैसे गुंतवण्याचे फायदे काय आहेत? जर तुम्हालाही अशीच समस्या असेल तर आज आम्ही तुमची समस्या समजून घेणार आहोत.

समजा, तुम्ही SIP मध्ये दरमहा ₹ 4,000 ची गुंतवणूक 5 वर्षांसाठी केली, तर त्याचा परिणाम त्या वेळी बाजाराची स्थिती काय होती आणि तुम्ही तेथे किती काळ पैसे गुंतवले यावर अवलंबून आहे. जर आम्हाला 12% वार्षिक रिटर्न मिळाला तर वर्षाच्या शेवटी आपल्याला चांगला रिटर्न मिळू शकतो.

जर तुम्ही ही गुंतवणूक 10 वर्षांसाठी केली तर त्याचा परिणाम आणखी मजबूत होईल. कारण तुमचे पैसे कंपाउंडिंग परिणाम कालांतराने वाढतील. तुम्ही SIP मध्ये 15 वर्षांसाठी गुंतवणूक केल्यास तुमचे पैसे आणखी वाढतील. जे तुमचे आर्थिक उद्दिष्ट साध्य करण्यात मदत करेल.

त्याचप्रमाणे, जर तुम्ही SIP मध्ये गुंतवणूक केली तर तुम्हाला बाजारातील चढ-उतार कळतील आणि त्याचा सामना करण्याची ताकद मिळेल. यासोबतच तुमचे पैसेही वाढतील. दीर्घकालीन आर्थिक सुरक्षितता आणि समृद्धीच्या दिशेने हे पहिले पाऊल आहे त्यामुळे SIP मध्ये पैसे गुंतवण्याची हीच योग्य वेळ आहे. तुम्ही ₹4,000 किंवा त्याहून अधिक गुंतवणूक करू शकता. तुम्ही तुमच्या पद्धतशीर गुंतवणूक योजनेनुसार तुमचे पैसे गुंतवणे सुरू करू शकता.

म्युच्युअल फंड एसआयपी ग्रेट फ्युचर Mutual Fund SIP Great Future
तुम्ही दरमहा ₹ 4,000 ची गुंतवणूक SIP मध्ये 30% वार्षिक परतावा दराने केल्यास, परिणाम खरोखरच आश्चर्यकारक असू शकतो. अशा उच्च परताव्यासह, तुमचे पैसे केवळ वाढतच राहणार नाहीत तर कंपाउंडिंग व्याजामुळे दुप्पटही होत राहतील.

या 30% दराने, तुमचे पैसे वेगाने वाढू लागतील आणि काही वर्षांत तुमचे गुंतवलेले पैसे तुमच्या अपेक्षेपेक्षा जास्त होऊ शकतात. तथापि, अशा उच्च परताव्याचा अंदाज लावताना, बाजारातील जोखमींचे मूल्यांकन करणे अधिक महत्त्वाचे आहे.

वेगवेगळ्या वेळी गुंतवणूक करून तुम्हाला इतका रिटर्न मिळेल
जर तुम्हाला म्युच्युअल फंडाच्या (Mutual Fund) माध्यमातून SIP मध्ये गुंतवणूक करायची असेल, तर ते खूप शहाणपणाचे पाऊल ठरू शकते. हे केवळ बाजारातील जोखीम कमी करत नाही तर तुम्हाला कंपाउंडिंग प्रभावाचा लाभ घेण्यास देखील अनुमती देते, म्हणून आम्हाला 4,000 रुपयांच्या मासिक SIP वर वेगवेगळ्या वेळी तुम्ही किती नफा मिळवू शकता ते आम्हाला कळू द्या.

5 वर्षांचा कालावधी:- या काळात, तुमचे सर्व पैसे 2,40,000 रुपये होतील आणि त्याच्या एकूण परताव्यात तुम्हाला सुमारे 3,29,945 रुपयांचा निधी मिळू शकेल.

10 वर्षांचा कालावधी:- या काळात तुमचे पैसे दुप्पट होऊ शकतात आणि तुम्हाला सुमारे 9,29,356 रुपये एकूण परतावा मिळू शकतो.

15 वर्षांचा कालावधी:- जर तुम्ही 15 वर्षांच्या कालावधीसाठी SIP मध्ये पैसे गुंतवले. त्यामुळे तुमच्या एकूण जमा पैशाचे मूल्य 20,18,304 रुपये होईल.

Mutual Fund SIP Plan  4,000 रुपयांच्या गुंतवणुकीवर 20 लाखांपर्यंत होणार लाभ


PostImage

Vande Mataram Express

March 10, 2024   

PostImage

Small Savings Schemes : 1अप्रैल शुरू होने वाली स्मॉल सेविंग …


सरकार ने 1 अप्रैल शुरू होने वाली 3 महीनो के लिए स्मॉल सेविंग स्कीम की ब्याज दरों घोषणा कर दी है. नै ब्याज दरें 1 अप्रैल से होंगी लागु.
सर्कार ने इस ३ महीनो के लिए इन स्कीम के लिए दरों में कोई भी बदलाव नहीं किया है. मतलब पिछले ३ महीने दिसम्बर - मार्च में जो दरें थी वही अप्रैल में शुरू होने वाली ३ महीने के लिए लागु होगी.

इस बार सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दरों में कोई भी बढ़ोतरी नहीं की है. वर्तमान में इस स्कीम पर ८.20% ब्याज दिया जायेगा. गए ३ महीनो लिए इस पर दरों को 8% से बढाकर 8.20% कर दिया था. बालिका के भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा शुरू किया था. 

बेटियों के उज्वल भविष्य के लिए सुकन्या समृद्धि योजना एक अच्छी इन्वेस्टमेंट स्कीम मानी जाती है. इस कसिम के तहत 15 साल इन्वेस्टमेंट करना होता है. जी की 21 साल बात मैच्योर होती है. अकॉउंट में ऑनलाइन ट्रांसफर डिमांड ड्राफ्ट या चेक कैश के माध्यम से पैसे जमा किये जा सकते है. 

अकॉउंट कोण खोल सकता है.
बालिका के नाम पर बालिका के माता-पिता सुकन्या समृद्धि योजना का अकॉउंट खोल सकते है. इंडिया पोस्ट के तहत जन्म तारीख से १० साल की उम्र तक अकाउंट खोला जा सकता है. कमसे काम २५० रुपये और ज्यादा से ज्यादा १,५०,००० रुपये साल के इन्वेस्ट करने पर सुकन्या समृद्धि    अकाउंट खोल सकते है. 

वर्तमान में सेविंग डिपॉजिट पर 4% 
1 साल की टाइम डिपॉजिट पर 6.9%
2 साल की टाइम डिपॉजिट पर 7%
3 साल की टाइम डिपॉजिट पर 7.1%
4 साल की टाइम डिपॉजिट पर 7.5%

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम पर 8.2% 
मंथली इनकम अकाउंट पर 7.4 %
नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट पर 7.7% , PPF पर 7.1%         
किसान विकास पत्र पर 7.5% 
सुकन्या समृद्धि योजना पर 8.2% की ब्याज मिलती है.

Small Savings Schemes  1अप्रैल शुरू होने वाली स्मॉल सेविंग स्कीम्स की नए ब्याज दरों का सरकार ने किया ऐलान


PostImage

Vande Mataram Express

March 10, 2024   

PostImage

PPF Public Provident Fund : सरकार ने नवीन व्याज दरांची …


Public Provident Fund : पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड भारतात एक लोकप्रिय लॉन्ग टर्म सेविंग स्कीम (Long Term Saving Scheme) आहे. जानेवारी - मार्च 2024 पर्यन्त अणि याच्या नंतर 1 अप्रैल 2024 पासून जून 2024 पर्यन्त याच्या साठी व्याज दर 7.1 टक्के आहे. पुढे तीन महिन्यासाठी सरकार ने नवीन व्याज दरांची घोषणा केली आहे. ज्या मध्ये कुठलाच बदलावं झालेला नाही आहे. PPF ने पहिल्यांदा जनतेसाठी 1968 मध्ये वित्त मंत्रालय ने नॅशनल सेविंग इन्स्टिट्यूशन (National Savings Institution) द्वारे सादर केले गेले होते. तेव्हापासून हे गुंतवणुकीसाठी दीर्घकालीन मालमत्ता निर्माण करण्याचे एक शक्तिशाली साधन उदयास आले आहे. 

गुंतवणूकदार कुठल्याही बँक किंवा जवळच्या पोस्ट ऑफिस मध्ये PPF खाता खोलू शकतात. तरी कुणाला आपल्या PPF खात्या मध्ये प्रति वर्ष किमान 5,000 रुपये भरण्याची आवश्यकता असते. PPF खात्या मध्ये तुमि जास्ती जास्त 1.5 लाख रुपये ठरवू शकतात. PPF खात्या ला मैच्योर होण्यासाठी 15 वर्ष वेळ लागतो. 


PostImage

Rushi Sahare

March 3, 2024   

PostImage

पायाभूत सुविधा बळकट करत गरीब, शेतकरी, युवक व महिलांचे कल्याण …


 मुंबई येथे सुरू असलेल्या अधिवेशनात दि. २७ फेब्रुवारी २०२४ रोजी राज्याचे मुख्यमंत्री नामदार  एकनाथजी शिंदे, उपमुख्यमंत्री नामदार  देवेंद्र फडणवीस यांच्या नेतृत्वात राज्याचे उपमुख्यमंत्री तथा वित्त मंत्री नामदार  अजित पवार यांनी महाराष्ट्र राज्याचा सन २०२४-२५ चा अंतरिम अर्थसंकल्प सादर केला. 

सादर करण्यात आलेला अर्थसंकल्प देशाचे पंतप्रधान  नरेंद्रजी मोदी यांनी मांडलेल्या विकसित भारत संकल्पने नुसार राज्यातील शेतकरी, गरीब , युवक, महीला या ४ प्रमुख जातींचे सर्वांगीण विकास व कल्याण करणारा आहे. अर्थसंकल्पातुन प्राधान्याने रस्ते, विज, आरोग्य या मुलभुत सुविधांवर भर देण्यात आला असुन शेतकरी, युवक, महीला व गरिब कल्याणांच्या योजनांसाठी मोठ्या प्रमाणात निधीची तरतूद करण्यात आली आहे. एकंदरीत राज्यातील सर्व घटकांच्या विकासासाठी उपाययोजना करण्यात आल्या आहेत.


PostImage

Nikhil Alam

Feb. 28, 2024   

PostImage

State Bank Home Lone 2024: स्टेट बँक दे रही है …


State Bank Home Lone 2024

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आप सभी का आज के इस नये प्यारा सा आर्टिकल मे आज के लिए नये आर्टिकल मे हम आप सभी को बताने वाले है कि स्टेट बँक से आप घर बनाने के लिए लोन किस प्रकार से ले सकते है? उनकी व्याज दर पात्रता क्या है? आवेदन करने के लिए अवैध की उम्र कितनी होनी चाहिये और आवेदक के पास वार्षिक आय क्या होनी चाहिये? या पूरी जानकारी आपो इस आर्टिकल मे बताने वाले है l

भाऊ च व्यक्ती है जो की होम लोन योजना के लिए अपना स्टेट बँक से लोन प्राप्त करना चाहते है, तो यह बँक से लोन प्राप्त कर सकते है l आयुष्यात बहुत गरीब परिवार है जो की रहने के लिए अच्छे घर नही है और गरीबी रेखा से नीचे और घर बनाने के लिए सोच रहे और उनके पास अधिक रुपये नही है, तो आप सभी को बता दो अब आप सभी को पहचान नही होना है क्यों की मात्र 6 मी ऍड मे आप सभी स्टेट बँक ऑफ इंडिया से होम लोन प्राप्त कर सकते है पूरी जानकारी विस्तार से प्राप्त करने के लिए आप सभी इस आर्टिकल को तक जरूर पडे l

.    State Bank Home Lone 2024 _ Overiew

SBI home loan Years 2024

Interest rate.   8.40% _ 10.15%.   Per year

Loan amount.   Property cost 90% तक

Payment period. 30 Yrs.

Processing fee. RS-=5000

दोस्त यदि आप भी स्टेट बँक ऑफ इंडिया से लोन प्राप्त करना चाहते है, तो स्टेट बँक से लोन कम बेस दरो पर प्राप्त कर सकते है l स्टेट बँक ऑफ इंडिया सबसे ज्यादा अच्छी पुरानी सरकारी बँक है और ऑफिशियल वेबसाईट पर जाकर आवेदन करे आपकी  उमर 18  वर्ष होनी चाहिये तब आप सभी आवेदन कर सकते है l आप ₹50,000 से लेकर एक करोड रुपये तक असा नीचे होम लोन प्राप्त कर सकते है l चुका ने की अवधि और पुरी डिटेल्स कैसे आवेदन करना है? व सभी जानकारी आपको नीचे बताई गई है इसलिये आप सभी आर्टिकल को पडना जारी रखेl

स्टेट बँक होम लोन व्याज दर और पात्रता

स्टेट बँक होम लोन योजना की व्याजदर अपात्रता की बात की जाये तो सबसे पहले आपको बता दे की आप एक भारतीय नागरिक होना चाहिये और आपकी आए 1,20,000 रुपये होनी चाहिये और फिक्स डिपॉझिट रहना जरुरी है, तब आप सभी असं आवेदन कर सकते है l आपका सिविल कौर 750+होनी चाहिये व्याजदर 8.40% वार्षिक व्याजदर से आपको यह लोन देनी होगी और यह लोन आप 5 साल यानी की 60 महिने की अवधि दी जाती है l

स्टेट बँक आवश्यक दस्तावेज

आधार कार्ड

पॅन कार्ड

निवास प्रमाणपत्र

आय प्रमाणपत्र

चरित्र प्रमाणपत्र

पासपोर्ट साईज फोटो

मोबाईल नंबर

आवेदक का letest ITR

पिछले 6 महिने की सॅलरी स्लिप

स्टेट बँक ऑफ इंडिया होम लोन लाभ

* एसबीआई होम लोन अप्लाई करना बहुत ही आसाने ऑफलाइन या ऑनलाइन दोनो तरीके से आवेदन कर सकते हैl

* एसबीआई ग्राहक को 14 तरह से एसबीआई होम लोन की सुविधा उपलब्ध करता है l

* एसबीआई होम लोन आवेदन करते ही बहुत कम समय में लोन की राशी आपकी खाते मे आ जाती है l

* एसबीआई महिलाओ को एसबीआई होम लोन अप्लाय पर 0.05% तक विशेष सुट्ट जाती है

* त्योहारो के समय पर या किसी खास ऑफर पर एसबीआई से होम लोन लेने पर कोई भी प्रोसेसिंग चार्ज नही लगता है l

* अच्छा सिबिल स्कोर होने पर एसबीआई होम लोन के साथ अधिक राशी भी देता है l

* एसबीआई अन्य बँक की तुलना मे अपने लोन पर बहुत कम व्याजदर व सुलता है l

* सरकारी नोकरी करने वाले कर्मचारी को भी एसबीआई से होम लोन मिल जाता है और उनके लिए कुछ विशेष सूट भी रहती हैl

* एसबीआई चे होम लोन भुतान के लिए अधिकतम 30 वर्ष तक का समय मिलता है

स्टेट बँक ऑफ इंडिया होम लोन प्रोसिजर फी

यदि आप सोच रहे की एसबीआय होम लोन लेने के लिए कितना एसबीआय होम लोन चार्ज कटेगा तो इसके लिए आपको बिलकुल भी चिंता करने की जरूरत नही है l एसबीआय होम लोन0.35% तक्की बहुत ही कम प्रोसेसिंग चार्ज पर आपको होम लोन मुहया करता है l सबसे अच्छी बादिया है कि त्योहार या ऑफर के समय एसबीआय से होम लोन लेने के लिए एक भी रूपया प्रोसेसिंग चार्ज नही लगता है, हालंकी या परिवर्तन समय समय पर बदला होते रहता है जिसकी जानकारी आपको एसबीआय का ऑफिसर वेबसाईट पर ही मिल जायेगी l

वही आप 10 लाख रुपये का लोन लेते है, तो आपको जो है वार्षिक 10.49%21,489 आपको डिपॉझिट करना होती है l दोस्तो यदि आप लोन लेते है; तो आपको सबसे कम रेट जो है बँक ऑफ इंडिया बहुत ही कम दरो पर लोन देती है

स्टेट बँक ऑफ इंडिया लोन लेने के लिए महत्वपूर्ण डॉक्युमेंट्स

आधार कार्ड ,पॅन कार्ड ,बँक पासबुक, वोटर आयडी कार्ड ,राशन कार्ड ,पॅन कार्ड, आय प्रमाणपत्र, जाती प्रमाणपत्र ,निवास प्रमाणपत्र, जमीन का केवाला फोटो कॉपी , जमीन का दाखला खारीज रशीद, कोर्ट द्वारा बनाया हुआ एफिडेविट,पासपोर्ट साईज 8फोटो

 

 


PostImage

Nikhil Alam

Feb. 25, 2024   

PostImage

Home Loan: होम लोन के लिए इतनी रखनी चाहिये EMI, …


Home Lone _ जब आप होम लोन के लिए आवेदन करते है तो उसके लिए सही अवधी चुनना बहुत महत्वपूर्ण है l क्योंकि होम लोन की अवधीही उसकी मासिक ईएमआई तय करती हैl

ऐसे मे अगर आप लंबी अवधी चुनते है तो इसकी ईएमआई तो कम होगी लेकिन आपको इस पर ज्यादा व्याज देना पड सकता हैl दुसरी और, यदि आप छोटी अवधी चुनते है, तो आपकी  ईएमआई अधिक होगी जो हर महीने आपके बजेट को प्रभावित कर सकती है l

उचित वित्तीय योजना के बिना, होम लोन एक बडा कदम है जो आपकी समग्र वित्तीय स्थिती को प्रभावीत कर सकता हैl आईये जानते है की आप होम लोन के लिए सही अगदी कैसे चुन सकते है, जीससे ना तो आप पर बोझ पडेगा और नही आपको ज्यादा ब्याज देना पडेगा l

अपनी वित्तीय स्थिती का मूल्यांकन करे

होम लोन के लिए अवधी चुनने से पहिले अपने  वितिय स्थिती का मूल्यांकन करना महत्वपूर्ण हैl इसके लिये आपको अपनी मासिक आय, मासिक खर्च और भविष्य के बडे खर्च और बचत को ध्यान मे रख कर योजना बनानी चाहिये l

आपको होम लोन चुखाने के लिए ऐसी अवधी चुननी चाहिये जो आपके बजेट पर दबाव डाले बिना ईएमआई का भुगतान सुनिश्चित कर सके l इससे आपको अपनी भक्त क्षमता जानने मे मदत मिलेगी और आप होम लोन चुकाने के लिए सही निर्णय ले पाएगें l

क्या करे की EMI न बन जाए बोझ?

अगर आप होम लोन चुकाने के लिए लंबी अवधी का विकल्प चूनते है तो आपकी मासिक ईएमआई कम हो जाती है l इसे आप आसानी से मेनेज कर सकते है. आपको यह विकल्प तब्येत चुना चाहिए जब आपका मासिक बजेट सीमित हो या आपके बाकी खर्च अधिक हो l

क्योकी लांबी अवधी का मतलब है की आपको इस पर अधिक व्याज देना होगा. वही अगर आपकी मासिक अधिक है और आप कर्ज से जल्दी मुक्त होना चाहते है तो आप छोटी अवधिका कार्यकाल चुन सकते हैl इसे आपको होम लोन पर कुल मिलाकर कम व्याज देना होगा.

कार्यकाल और ईएमआई के बीच संतुलन बनाना जरुरी है

होम लोन चुका ने के लिये ईएमआई और लोन मोदी के बीच सही संतुलन बनाना बहुत जरुरी है l आपको ऐसा कार्यकाल चुनना चाहिये जो अन्य खर्च को प्रभावित किए बिना होम लोन चुकाने मे आपकी मदत कर सकेl

कार्यकाल और ईएमआई राशी मे विभिन्न समायोजनो का मूल्यांकन करने के लिए आप ऑनलाइन ईएमआई कॅलकुलेटर की मदत ले सकते है l इसके अलावा आपको लोन की व्याज दर , प्री पेमेंट विकल्प, लोनवदी के दौरा आपकी आय मे संभावित बदलाव आधी को ध्यान मे रखना चाहिएl


PostImage

Today Latest News

Feb. 23, 2024   

PostImage

Retirement Reverse mortgage scheme : SBI ने शुरू की ये …


दोस्तों बढ़ती उम्र के साथ पैसे बचाने होते है लेकिन महंगाई इतनी बढचुकि है की ये करना बहुत मुश्किल है. और बच्चो के शिक्षा का खर्चा इतना बढ़ चूका है की बचत करने के लिए पैसे बचा पाना कठिन है. बुढ़ापा बहुत ख़तम हो जाता है. तो इसलिए SBI ने सेवानिवृत लोगों के लिए एक खास योजना बनाई है. अब बुढापेमें घर बैठे मिलेंगे पैसे और टैक्स भी भरना नहीं पड़ेगा।

रिव्हर्स मोर्टगेज योजना शुरू हुई (Reverse mortgage scheme launched)
सेवनिवृतिकेलिए पैसे बचा न पाए इन बुजुर्गों के लिए अब सरकारी बैंक देगी पैसे। इस योजना के अंतर्गत निर्धारित आयु के बाद वाले बुजुर्गों को घर बैठे दिए जायेंगे पैसे। ऐसा करने से उनका खर्चा पूरे हो सकते हैं और इलाज भी हो सकता है सबसे अच्छी बात ये है की ये पैसे वापस लौटने नहीं होंगे और नाही उनपर कोई टैक्स देना पडेहगा।

ये योजना कैसी काम करती है. 
सरकारी बैंक SBI की ये योजना बुजुर्गों के लिए बनाई गई है जिसमे लोगोंको उनकी निवासी संपत्ति के बदले में पैसे दिए जाते है. तथापि इस योजना के सम्पूर्ण कालावधि में संपत्ति की पूरी स्वामित्व बुजुर्गों का ही रहेगा या उनको घर से बहार निकला नहीं जायेगा। इसमें कोई भी EMI भरने की आवश्यकता नहीं।

SBI की ये योजना 62 वर्ष से ऊपर जेष्ट वरिष्ठ नागरिकों के लिए है. पत्नी की उम्र कम से कम ५५ होनी चाहिए। इस योजना में पैसे आप प्रति महीना पगार के तोर पर उपयोग कर सकते है.

👉 ऐसी जानकारी जानने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें 👈


PostImage

Today Latest News

Feb. 22, 2024   

PostImage

Maharashtra Berojgari Bhatta Yojana : महाराष्ट्र बेरोजगारी भत्ता योजना अंतर्गत …


 

Maharashtra Berojgari Bhatta Yojana : राज्य के युवा अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद अच्छी नौकरी की तलाश में रहते हैं क्योंकि उनके कंधों अपने परिवार की देखभाल की जिम्मेदारी होती है लेकिन राज्य में नौकरियों की कमी होने के कारण अधिकांश युवा बेरोजगार हैं इसलिए उन्हें काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है. अपनी जरूरतों और पारिवारिक जरूरतों को पूरा करने में होने वाली समस्याओं का उनके दिमाग पर ख़राब प्रभाव पड़ता है.

और कुछ बेरोजगार युवा नौकरी नहीं मिलने के कारण से आत्महत्या करने का भी सोचते है इसलिए बेरोजगार युवाओं की इन सभी समस्याओं का विचार करते हुए राज्य सरकार ने बेरोजगारी भत्ता योजना शुरू करने का महत्वपूर्ण फैसला लिया है. महाराष्ट्र बेरोजगारी भत्ता योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के बेरोजगार युवाओं को उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना है.

महाराष्ट्र बेरोजगारी भत्ता के तहत राज्य के 21 से 25 वर्ष की आयु वर्ग के बेरोजगार युवाओं को 5,000/- रुपये प्रति माह की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है.

योजना का नाम : महाराष्ट्र बेरोजगारी भत्ता Maharashtra Berojgari Bhatta Yojana
राज्य : महाराष्ट्र Maharashtra
उद्देश्य : बेरोजगार युवाओं को मासिक आर्थिक सहायता प्रदान करना
लाभार्थी : राज्य में बेरोजगार युवा
लाभ रु. 5,000/- प्रति माह की वित्तीय सहायता
आवेदन विधि : ऑनलाइन Online 

महाराष्ट्र बेरोजगारी भत्ता का उद्देश्य
1. राज्य के बेरोजगार युवाओं को हर माह बेरोजगारी भत्ता प्रदान करने का मुख्य उद्देश्य उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करना है.
2. राज्य में बेरोजगार युवाओं के जीवन स्तर में सुधार लाना.
3. राज्य के बेरोजगार युवाओं का सामाजिक एवं आर्थिक विकास
4. बेरोजगार युवाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाना.
5. नौकरी तलाशते समय किसी से खर्च मांगने की जरूरत नहीं होनी चाहिए.

6. बेरोजगार युवाओं को अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पैसों के लिए किसी पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं होनी चाहिए और न ही किसी से पैसे उधार लेने की जरूरत होनी चाहिए.
बेरोजगार युवाओं की आत्महत्या को रोकना.

यह योजना महाराष्ट्र सरकार द्वारा शुरू की गई है.
इस योजना के तहत राज्य के बेरोजगार युवाओं के जीवन स्तर में सुधार लाने और उन्हें मजबूत और स्वतंत्र बनाने में मदद होगी.
योजना के तहत दी जाने वाली आर्थिक राशि DBT की सहायता से लाभार्थी युवा के बैंक खाते में जमा की जाएगी.
इस योजना का लाभ राज्य के सभी जाति और धर्म के बेरोजगार युवाओं को दिया जाएगा.

👉 ऐसी जानकारी जानने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें 👈


PostImage

Kawadukukudkar

Feb. 2, 2024   

PostImage

Indian Budget 2024 : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा …


New Delhi : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने गुरुवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था में पिछले 10 वर्षों में गहरा सकारात्मक परिवर्तन देखा गया है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने चुनाव पूर्व बजट में, जो तकनीकी रूप से वोट ऑन अकाउंट है और लोकप्रिय रूप से अंतरिम बजट कहा जाता है, कहा कि भारत के लोग आशा और विकल्पों के साथ भविष्य की ओर देख रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने समावेशिता के सभी पहलुओं को कवर किया है। वित्त मंत्री ने कहा, संरचनात्मक सुधारों, जन-समर्थक कार्यक्रमों और रोजगार के अवसरों ने अर्थव्यवस्था को नई ताकत देने में मदद की.
 
2020-21 में 5.8 प्रतिशत की गिरावट के बाद, अर्थव्यवस्था ने 2021-22 में 9.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। वित्त मंत्रालय ने अपनी नवीनतम मासिक आर्थिक समीक्षा में कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था (indian economy) अगले तीन वर्षों में मौजूदा 3.7 ट्रिलियन से 5 ट्रिलियन GDP के साथ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगी.

इसमें यह भी कहा गया है कि भारत अगले छह से सात वर्षों में (2030 तक) 7 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर(7 trillion US dollars) की अर्थव्यवस्था बनने की आकांक्षा रख सकता है। दिसंबर में, भारतीय रिज़र्व बैंक(Reserve Bank of India) ने घरेलू मांग में बढ़ोतरी और विनिर्माण क्षेत्र में उच्च क्षमता उपयोग के कारण चालू वित्त वर्ष के लिए GDP वृद्धि अनुमान को पहले के 6.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 7 प्रतिशत कर दिया.

वाशिंगटन मुख्यालय(Washington Headquarters) वाले अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष International Monetary Fund (IMF) ने अनुमान लगाया है कि भारत में आर्थिक वृद्धि 2023-24 और 2024-25 में 6.5 प्रतिशत पर मजबूत रहेगी, जो कि पहले के पूर्वानुमान से दोनों वर्षों के लिए 0.2 प्रतिशत अंक का उन्नयन है.
 
विश्व बैंक world Bank ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की विकास दर 6.4 प्रतिशत और 2024-25 के लिए सकल घरेलू उत्पाद में मामूली वृद्धि 6.5 प्रतिशत का अनुमान लगाया है। एक अन्य प्रमुख बहुपक्षीय एजेंसी एडीबी ने उद्योग में दोहरे अंक की वृद्धि से प्रेरित होकर, जुलाई-सितंबर में उम्मीद से अधिक तेजी से विस्तार के बाद, 2023-24 के लिए भारत के विकास के दृष्टिकोण को 6.3 प्रतिशत से बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है.

 

👉 ऐसी जानकारी जानने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें 👈


PostImage

Kawadukukudkar

Feb. 2, 2024   

PostImage

Defense Budget 2024 : इस साल देश की रक्षा पर …


NEW DELHI : मामूली बढ़ोतरी में, सरकार ने गुरुवार को रक्षा बजट (Defense Budget) को पिछले साल के 5.94 लाख करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2024-25 के लिए 6.21 लाख करोड़ रुपये कर दिया और सैन्य क्षेत्र में "डीप-टेक" प्रौद्योगिकियों (Deep-tech technologies) के लिए एक महत्वाकांक्षी योजना की घोषणा की.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण(Finance Minister Nirmala Sitharaman) द्वारा संसद में पेश किए गए अंतरिम केंद्रीय बजट में, पूंजीगत व्यय के लिए सेना के लिए कुल 1.72 लाख करोड़ रुपये अलग रखे गए थे, जिसमें बड़े पैमाने पर नए हथियार, विमान, युद्धपोत और अन्य सैन्य हार्डवेयर खरीदना शामिल है। 2023-24 के लिए, पूंजी परिव्यय के लिए बजटीय आवंटन 1.62 लाख करोड़ रुपये था। वित्त मंत्री ने यह भी घोषणा की कि रक्षा उद्देश्यों के लिए डीप-टेक प्रौद्योगिकियों को मजबूत करने और क्षेत्र में 'आत्मनिर्भरता' में तेजी लाने के लिए एक नई योजना शुरू की जाएगी.
 
कुल राजस्व व्यय 4,39,300 करोड़ रुपये आंका गया है जिसमें रक्षा पेंशन के लिए 1,41,205 करोड़ रुपये, रक्षा सेवाओं के लिए 2,82,772 करोड़ रुपये और रक्षा मंत्रालय (नागरिक) के लिए 15,322 करोड़ रुपये शामिल हैं। रक्षा सेवाओं के लिए पूंजीगत परिव्यय में, विमान और एयरो इंजन के लिए 40,777 करोड़ रुपये अलग रखे गए हैं, जबकि "अन्य उपकरणों" के लिए 62,343 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है

नौसेना(Navy) बेड़े के लिए 23,800 करोड़ रुपये और नौसेना डॉकयार्ड परियोजनाओं के लिए 6,830 करोड़ रुपये का परिव्यय किया गया है। 2023-24 के बजट में, भारतीय वायु सेना(Indian Air Force) के लिए पूंजी परिव्यय सबसे अधिक 57,137.09 करोड़ रुपये था, जिसमें विमान और एयरो इंजन की खरीद के लिए 15,721 करोड़ रुपये और अन्य उपकरणों के लिए 36,223.13 करोड़ रुपये शामिल थे। 2024-25 के लिए सेना के लिए राजस्व व्यय 1,92,680 करोड़ रुपये आंका गया है, जबकि नौसेना और भारतीय वायु सेना को क्रमशः 32,778 करोड़ रुपये और 46,223 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं.
 
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय सुरक्षा अध्ययन के विशेष केंद्र में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. लक्ष्मण कुमार बेहरा ने रक्षा बजट के तहत समग्र आवंटन को मामूली बताया जो सेना के लिए सरकार की प्राथमिकताओं को दर्शाता है। उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ''आवंटन से सशस्त्र बलों के प्रति प्रतिबद्धता में कोई कमी नहीं दिखी।'' डॉ. बेहरा ने पूंजीगत व्यय के तहत परिव्यय में 10,000 करोड़ रुपये की वृद्धि को भी एक "स्वस्थ संकेत" बताया.

👉 ऐसी जानकारी जानने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें 👈